loader

राम मंदिर के चक्रव्यूह में फँसे पीएम मोदी

सुप्रीम कोर्ट ने आज अयोध्या में राम जन्म भूमि मामले की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय खंडपीठ का गठन करने और सुनवाई के लिए दस जनवरी की तारीख़ तय कर दी। यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए राहत की ख़बर है। पर यह राहत टिकाऊ होगी या क्षणजीवी, यह दस जनवरी को पता चलेगा।

दरअसल, राम मंदिर के मुद्दे पर संघ परिवार और प्रधानमंत्री की सोच में अंतर नज़र आ रहा है। प्रधानमंत्री अदालत के फ़ैसले से पहले किसी तरह का क़दम उठाने के पक्ष में नहीं हैं। वह जानते हैं कि चुनाव के समय इस मुद्दे पर फ़ैसला आने की संभावना कम है। यदि फ़ैसला आ भी गया तो उसका राजनीतिक फ़ायदा उठाने के लिए जो क़दम उठाने पड़ेंगे उनके लिए तो बिल्कुल ही समय नहीं है। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद प्रधानमंत्री के हाथ बँध जाएँगे।

प्रधानमंत्री नहीं चाहते कि एक आधे-अधूरे मुद्दे को लेकर इतने अहम चुनाव में जाएँ। वे अपनी योजनाओं और उनके लाभार्थियों के बूते चुनाव में जाना चाहते हैं। ऐसा लगता है कि उन्हें राम मंदिर मुद्दे के चुनावी फ़ायदे पर भी भरोसा नहीं है। यही कारण है कि वे पिछले 5 साल में देश-विदेश के तमाम मंदिरों में गए लेकिन अयोध्या कभी नहीं गए।

संघ और बीजेपी कहते रहे हैं कि केंद्र और उत्तर प्रदेश में स्पष्ट बहुमत की सरकार बनने पर ही राम मंदिर मुद्दे का हल निकल सकता है। अब दोनों जगह सरकार बनने के बाद संघ और बीजेपी के पास कोई बहाना नहीं बचा है।

संघ परिवार की राय अलग

हाल में एक एजेंसी को दिए इंटरव्यू में राम मंदिर के विषय में पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अदालत का आदेश आने के बाद वह अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करेंगे। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसके आनुषांगिक संगठनों की इस मुद्दे पर अध्यादेश लाने की माँग पर उन्होंने विराम लगा दिया। पर संघ परिवार इस बात से सहमत नज़र नहीं आता। उसे लग रहा है कि इस मुद्दे पर उसकी साख दाँव पर है।

अब क्या कहें संघ, बीजेपी

संघ का कहना है कि उसे इस मुद्दे पर आंदोलन शुरू किए तीन दशक से ज़्यादा का समय हो गया पर अभी तक इसका हल नहीं निकला। संघ और बीजेपी लोगों से कहते रहे हैं कि जब केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) में उनकी स्पष्ट बहुमत की सरकार होगी तभी इस मुद्दे का हल निकल पाएगा। देश के लोगों ने दोनों जगह बीजेपी की सरकार बनवा दी। अब संघ और बीजेपी के सामने कोई बहाना नहीं बचा है। 

इतना ही नहीं, बीजेपी चुनाव दर चुनाव अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनवाने का वादा अपने चुनाव घोषणा पत्र में करती रही है। प्रधानमंत्री को पता है कि उनके पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं है कि 5 साल उनकी सरकार ने इस मुद्दे पर क्या किया। अपनी सरकार के काम काज के बारे में उनके पास कहने के लिए बहुत कुछ है। विपक्ष भले ही उस पर सवाल उठाए लेकिन उनके पास जवाब देने के लिए काम और बातों की कमी नहीं है।

क्या रोजाना होगी सुनवाई?

सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई की पहली तारीख़ तय करके उन लोगों को चुप करा दिया है जो अदालत पर इस मामले के प्रति संवेदनहीनता का आरोप लगा रहे थे। मोदी और संघ के लिए परीक्षा की असली घड़ी 10 जनवरी को आएगी। 10 जनवरी को 3 जजों की बेंच को तय करना है कि वह आगे की सुनवाई कब से करगी। क्या अदालत इस मामले की रोजाना सुनवाई करेगी? उससे भी बड़ा सवाल यह है कि इस बात की कितनी संभावना है कि यदि सुनवाई पूरी भी हो जाती है तो फ़ैसला भी उसी समय आ जाएगा। 

साल 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव के ख़िलाफ़ आय से अधिक सम्पत्ति के मामले की सुनवाई पूरी कर ली लेकिन फ़ैसला नहीं दिया। अदालत ने कहा कि विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और इस फ़ैसले से चुनाव प्रभावित हो सकता है। यह दीगर बात है कि वह फ़ैसला आज तक सुरक्षित है।

prime minister narendra modi trapped in Chakravyuh of Ram mandir - Satya Hindi

सुनवाई टली तो बढ़ेगा संकट 

10 जनवरी को यदि रोजाना सुनवाई शुरू होती है तो संघ और मोदी की मुश्किलें थोड़ी कम हो जाएँगी। लेकिन सुनवाई लोकसभा चुनाव के बाद के लिए टाल दी गई तो सबसे बड़ा संकट प्रधानमंत्री के सामने होगा। उसके बाद संघ परिवार और संत समाज का इस मुद्दे पर अध्यादेश लाने का दबाव बढ़ जाएगा। तब मोदी सरकार के लिए अदालत के पीछे छिपना कठिन हो जाएगा। प्रधानमंत्री को इन बातों का अंदाजा है। इसीलिए वह नहीं चाहते कि लोकसभा चुनाव में राम मंदिर का मुद्दा मुख्य मुद्दा बने।

संभलकर चल रही कांग्रेस 

अदालत का रुख क्या होगा इसे लेकर कांग्रेस में भी आशंका है। शायद इसी को ध्यान में रखकर राहुल गाँधी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में राम जन्म भूमि मुद्दा नहीं होगा। कांग्रेस इस मुद्दे पर बीजेपी के जाल में नहीं फँसना चाहती। बीजेपी बार-बार कोशिश कर रही है कि कांग्रेस राम मंदिर के विरोध में खड़ी नजर आए। कांग्रेस पहले इस जाल में फँसती रही है। राहुल गाँधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस इस मामले में बहुत स्पष्ट है कि किस रास्ते पर उसे नहीं जाना है। राम मंदिर का मुददा ऐसा ही है। क्योंकि कांग्रेस को पता है कि वह समर्थन करे तब भी मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने का श्रेय या चुनावी लाभ उसे नहीं मिलेगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रदीप सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें