loader
अस्पताल में भर्ती एक बीमार से मिलते मुख्यमंत्री।

आँध्र के एक शहर में 'रहस्यमयी' बीमारी; 500 बीमार, 1 की मौत

वैक्सीन आने के बाद भी कोरोना का डर अभी ख़त्म भी नहीं हुआ है कि आँध्र प्रदेश के एक शहर में 'रहस्यमयी' बीमारी का खौफ है। पूरी तरह तंदुरुस्त लोगों को भी दौरा पड़ रहा है। बेहोश हो कर गिर रहे हैं। अस्पताल में भर्ती कराए जाने के कुछ घंटों के अंदर ही मरीज की हालत सुधर भी जा रही है। खौफ की वजह यह है कि तब क्या होगा जब घर में अकेले व्यक्ति को दौरा पड़ जाए और बेहोशी छा जाए? अभी तक बीमारी का पता भी नहीं लग पाया है। 

घटना की गंभीरता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि घटना सामने आने के बाद मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने सोमवार को ही उन पीड़ितों का हालचाल जाना जिनका इलाज एलुरु सरकारी अस्पताल में किया जा रहा था। 

मामला आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी ज़िले के शहर एलुरु का है। रिपोर्टों में कहा गया है कि शनिवार शाम से अब तक 500 से अधिक लोग इस 'रहस्यमयी' बीमारी की चपेट में आए हैं। ज़्यादातर मामलों में लक्षण समान थे। 

एम्स (दिल्ली), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी (पुणे) और सेंटर फ़ॉर डिजीज कंट्रोल (दिल्ली) के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने भी मंगलवार को राज्य के अधिकारियों के साथ बैठक की और मरीजों से बातचीत की।

इस बीच राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ए के कृष्णा श्रीनिवास ने कहा कि उन 510 लोगों, जो बीमारी से प्रभावित थे, में से 430 को छुट्टी दे दी गई थी। अब तक एक की मौत की सूचना है। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा, 'मैं लोगों से अपील कर रहा हूँ कि घबराएँ नहीं। रोगियों की संख्या में कमी आई है; 40 से कम की रिपोर्ट आज आई। मुझे पता है कि लोग डरे हुए हैं। हम यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि इसकी वजह क्या थी।'

बीमारी का पता नहीं है इसलिए भी लोगों में ज़्यादा डर है। हालाँकि स्वास्थ्य अधिकारियों को संदेह है कि भोजन या पानी दूषित हो सकता है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली की एक टीम की प्रारंभिक रिपोर्ट में ख़ून के कुछ नमूनों में लेड यानी सीसा और निकल के निशान पाए गए हैं। 

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, एलुरु सरकारी अस्पताल के अधीक्षक डॉ. ए वी मोहन ने कहा, 'एम्स को जो नमूने भेजे गये थे, वह काफ़ी कम थे, लेकिन उनकी रिपोर्ट में सीसा और निकल जैसी भारी धातुओं की मौजूदगी का संकेत मिला है। हमने और नमूने भेजे हैं और रिपोर्ट का इंतज़ार है।'

andhra pradesh city eluru mystery illness worrying  - Satya Hindi
अस्पताल में भर्ती एक बीमार।फ़ोटो साभार: आँध्र प्रदेश सीएमओ/वीडियो ग्रैब

कुछ ऐसी ही बात राष्ट्रीय पोषण संस्थान यानी एनआईएन हैदराबाद के एक वैज्ञानिक ने कही। उन्होंने कहा, 'दौरा पड़ने से न्यूरोलॉजिकल समस्या का संकेत मिलता है। भारी धातु की संभावना की जाँच की जाएगी।'

क्लिनिकल ​​महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख डॉ. जे. बाबू गेड्डम के नेतृत्व में एनआईएन की अलग-अलग विशेषज्ञों की टीम जाँच पड़ताल करेगी। 

जाँच करने वाली टीम में सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, महामारी विज्ञानियों, सूक्ष्म जीवविज्ञानी और खाद्य सुरक्षा विशेषज्ञ शामिल हैं। यह टीम शहर में पानी, खाद्य तेल और चावल के नमूने की जाँच करेगी।
रिपोर्टों में कहा गया है कि जिन लोगों में यह बीमारी पायी गई है वे किसी ख़ास क्षेत्र के नहीं हैं, बल्कि पूरे शहर भर में हैं। कहा जा रहा है कि यदि यह बीमारी पानी या हवा के दूषित होने से होती तो किसी ख़ास क्षेत्र में सभी बीमार पड़ते, लेकिन ऐसा नहीं है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अधिकतर मामलों में हर परिवार से एक सदस्य ही बीमार पड़ रहा है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

आंध्र प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें