loader

राम मंदिर निर्माण : सातवीं कड़ी : विवादित ज़मीन हिन्दुओं को, मसजिद के लिए अलग ज़मीन

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण आज से शुरू होगा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसकी आधारशिला रखेंगे। लंबे इंतजार और पेचीदे मुक़दमेबाजी के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला फरवरी में सुनाया। क्या है इस फ़ैसले में, क्या कहा है सुप्रीम कोर्ट ने? इन तमाम मुद्दों पर सत्य हिन्दी पेश कर रहा है विशेष शृंखला। इस कड़ी में पढ़ें, सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर उस दिन छपी हमारी रिपोर्ट।
सुप्रीम कोर्ट ने एक बेहद अहम फैसले में अयोध्या की विवादित ज़मीन राम लला विराजमान को देने का निर्णय सुनाया है। इसके साथ ही मुसलमानों को मसजिद बनाने के लिए 5 एकड़ ज़मीन अलग से दी जाएगी। 
सुप्रीम कोर्ट ने अपने फ़ैसले में कहा है कि मंदिर बनाने के लिए तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट बनाया जाएगा, जिसमें निर्मोही अखाड़े का भी प्रतिनिधित्व हो। 
खंडपीठ ने कहा कि हिन्दू पक्ष यह साबित करने में कामयाब रहा कि बाहरी आंगन पर उसका कब्जा बहुत पहले से ही रहा है। दूसरी ओर, मुसलिम पक्ष यह साबित नहीं कर सका कि आंगन पर सिर्फ़ उसका ही कब्जा था।
सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह एक स्कीम बनाए, जिसमें ट्रस्ट बनाने की व्यवस्था हो। विवादित ज़मीन का अंदरूनी और बाहरी आंगन रामजन्मभूमि ट्र्स्ट को दें। 
सर्वोच्च अदालत ने यह भी कहा है कि इस मामले में 2010 में दिया गया इलाहाबाद हाई कोर्ट का फ़ैसला तर्क से परे था। अदालत ने ज़ोर देकर कहा कि इसका कोई तर्क नहीं हो सकता कि सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा के मामले को खारिज करने के बाद उन्हें ज़मीन में हिस्सा भी दिया जाए।
पूरी ज़मीन को एक ही माना जाना चाहिए। बता दें कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने विवादित ज़मीन को तीन पक्षकारों में बाँट दिया था। 
ताज़ा ख़बरें
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि निर्मोही अखाड़ा सेवईत नहीं है, यानी उसे मूर्तियों की सेवा का हक़ नहीं है। अदालत ने यह भी कहा कि रामजन्मभूमि कोई न्यायिक व्यक्ति नहीं है। इसके साथ ही आर्कियोलोजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया की इस रिपोर्ट को अदालत ने खारिज नहीं किया, जिसमें कहा गया था कि बाबरी मसजिद किसी खाली जगह पर नहीं बनाई गई ती। 
अदालत ने कहा कि उसके लिए यह उचित नहीं होगा कि वह धर्मशास्त्र के ज्ञाता की भूमिका निभाए और हदीस की व्याख्या करे। कोर्ट ने फ़ैसले में कहा कि आस्था के आधार पर ज़मीन का मालिक़ाना हक़ नहीं दिया जा सकता। साथ ही कोर्ट ने साफ़ कहा कि फ़ैसला क़ानून के आधार पर ही दिया जाएगा।
अयोध्या विवाद से और ख़बरें
कोर्ट ने एएसाई रिपोर्ट के आधार पर अपने फ़ैसले में कहा कि मंदिर तोड़कर मसजिद बनाने की भी पुख्ता जानकारी नहीं है। 
मुसलिम पक्ष के वकील ज़फ़रयाब जिलानी ने इस पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा, 'हम कोर्ट के फ़ैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन इसमें कई विरोधाभास है, लिहाज़ा हम फ़ैसले से संतुष्ट नहीं है। हम फ़ैसले का मूल्यांकन करेंगे और आगे की कार्रवाई पर फैसला लेंगे।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अयोध्या विवाद से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें