loader

बाबरी मसजिद मामले में शिया वक़्फ़ बोर्ड की याचिका खारिज

राम मंदिर-बाबरी मसजिद विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जगह को रामलला का बताया है। अदालत ने कहा है कि सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को मसजिद बनाने के लिये वैकल्पिक ज़मीन दी जाए। चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया (सीजेआई) रंजन गोगोई की अध्यक्षता में बनी संविधान पीठ ने शिया वक़्फ़ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी है। इस संविधान पीठ में डी. वाई, चंद्रचूड़, जस्टिस नज़ीर, एस. ए. बोबडे, अशोक भूषण भी हैं। 

शिया वक़्फ़ बोर्ड बाबरी मसजिद-राम मंदिर विवाद के पक्षकारों में एक है। मुसलमानों की ओर से शिया वक़्फ़ बोर्ड और सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड इस मामले में पक्षकार थे। शिया वक़्फ़ बोर्ड के वकील अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आने से पहले कहा था कि यदि उनके पक्ष में फ़ैसला आया तो वे लोग ज़मीन को राम मंदिर के निर्माण के लिए दे देंगे। उन्होंने कहा था कि राम इमाम-ए-हिंद थे और अयोध्या में उनका भव्य मंदिर बनना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

शिया वक़्फ़ बोर्ड के वकील ने अदालत का फ़ैसला आने से पहले कहा था कि बाबरी मसजिद बनाने वाला मीर बाक़ी शिया था और किसी भी शिया की बनाई गई मसजिद को किसी सुन्नी को नहीं दिया जा सकता है, इसलिए इस पर हमारा अधिकार बनता है और इसे हमें दे दिया जाए। 

शिया वक़्फ़ बोर्ड की ओर से बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने कहा था कि साक्ष्यों के आधार पर बाबरी मसजिद शिया वक़्फ़ बोर्ड के अधीन है। शिया वक़्फ़ बोर्ड विवादित जगह पर मंदिर बनाए जाने का समर्थन करता रहा है।
शिया वक़्फ़ बोर्ड ने अपनी याचिका में कहा था कि 1946 में एक ट्रायल कोर्ट ने बाबरी मसजिद को सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की संपत्ति होने का फ़ैसला सुनाया था। लेकिन शिया वक़्फ़ बोर्ड ने इस बात का दावा किया था कि यह मसजिद मुग़ल शासक बाबर ने नहीं बनाई थी बल्कि उसके कमांडर मीर बाक़ी ने बनाई थी, जो शिया था। 2017 में शिया वक़्फ़ बोर्ड ने इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था और 1946 के फ़ैसले को चुनौती दी थी। बोर्ड ने अपनी याचिका में कहा था कि शिया बोर्ड के पास 1946 तक विवादित जमीन का कब्जा था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अयोध्या विवाद से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें