loader
वायरल वीडियो का स्क्रीन ग्रैब।

बिहार: 264 करोड़ की लागत से बना पुल एक महीने में बहा, तेजस्वी हमलावर

बिहार के गोपालगंज जिले में एक महीने पहले ही जिस पुल का उद्घाटन हुआ था, वह बुधवार को बह गया। यह पुल सोती नदी पर बनाया गया था और 16 जून को इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था। इसकी लागत लगभग 264 करोड़ रुपये बताई गई है। 

पुल के बहने की घटना के बाद बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोल दिया है। तेजस्वी ने कहा है कि ख़बरदार! अगर किसी ने इसे नीतीश जी का भ्रष्टाचार कहा तो? उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘263 करोड़ तो सुशासनी मुँह दिखाई है, इतने की तो इनके चूहे शराब पी जाते हैं।’ नीतीश कुमार ख़ुद को सुशासन बाबू कहलाना पसंद करते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

तेजस्वी यादव ने कहा कि क्या नीतीश कुमार में हिम्मत है कि वह संबंधित विभाग के मंत्री पर कार्रवाई करेंगे। उन्होंने पूछा है कि क्या इसे बनाने वाली कंपनी पर कोई कार्रवाई होगी। 

'बिहार में चारों तरफ लूट' 

तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा, ‘263 करोड़ से 8 साल में पुल बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढह गया। संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।’ उन्होंने कहा कि सरकार का ध्यान कोरोना से लड़ाई में नहीं वर्चुअल रैलियों पर है। 

बिहार से और ख़बरें

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले इस पुल का बह जाना निश्चित रूप से राज्य सरकार के कामकाज पर सवाल खड़े करता है। इस पुल के बनने में आठ साल का वक्त लगा था और यह पहली बरसात ही नहीं झेल सका और सिर्फ़ एक महीने में बह गया। इससे समझा जा सकता है कि पुल के निर्माण में बेहद ख़राब क्वालिटी के सामान का इस्तेमाल हुआ होगा। 

दूसरी ओर, बिहार में कोरोना से निपटने को लेकर भी नीतीश सरकार सवालों के घेरे में है। हालात इस क़दर ख़राब हो चुके हैं कि राज्य में 16 से 31 जुलाई तक फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ा है। कोरोना महामारी से निपटने के इंतजामों को लेकर विपक्ष के ढेरों सवालों के बीच इस पुल के बह जाने के बाद उठने वाले सवालों का जवाब देना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए बेहद मुश्किल होगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें