loader

कोरोना संकट से निपटने में फ़ेल साबित हो रहे हैं नीतीश?, विपक्ष हमलावर

क्या बिहार पहुंचे प्रवासी मजदूरों को वहां के क्वारेंटीन सेंटर्स में अच्छी सुविधा नहीं मिल रही है। क्योंकि बीते कई दिनों में क्वारेंटीन सेंटर्स में रह रहे मजदूरों ने वीडियो जारी कर बताया है कि वे बेहद ख़राब हालात में वहां रह रहे हैं। 

देश भर के कई राज्यों में काम कर रहे बिहार के प्रवासी मजदूरों ने पहले उन्हें घर पहुंचाने के लिए उग्र प्रदर्शन किया। सूरत से लेकर अहमदाबाद और लुधियाना से लेकर मुंबई में वे कई बार सड़कों पर सिर्फ़ यह बताने के लिए उतरे कि लॉकडाउन के कारण काम-धंधा बंद होने से उन्हें खाने के भी लाले पड़ गए हैं। ऐसे में राज्य सरकार उन्हें यहां से निकालकर उनके घर पहुंचाए। 

ताज़ा ख़बरें

पहले तो राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लंबे समय तक प्रवासियों को घर वापस लाने के मुद्दे पर अनमना रूख अपनाते रहे। लेकिन राज्य में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव और विपक्षी राजनीतिक दल आरजेडी द्वारा इसे मुद्दा बनाए जाने के बाद नीतीश कुमार इसके लिए तैयार हुए। 

प्रवासी मजदूरों का हंगामा

अब जब प्रवासी मजदूर राज्य में पहुंच गए तो क्वारेंटीन सेंटर्स के बदतर हालातों के कारण उनका पारा चरम पर है। मधुबनी, सहरसा, बेगूसराय से लेकर कई अन्य जगहों पर बने क्वारेंटीन सेंटर्स में रुके प्रवासी मजदूरों का कहना है कि उन्हें बेहद ख़राब खाना दिया जा रहा है और बाक़ी इंतजाम भी ठीक नहीं हैं। बेगूसराय में तो मजदूरों ने जमकर हंगामा भी किया। 

विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव लगातार नीतीश कुमार पर हमला बोल रहे हैं। प्रवासी मजदूरों के ट्रेन भाड़े से लेकर क्वारेंटीन सेंटर्स की बदहाली को तक, तेजस्वी लगातार उठा रहे हैं। 

प्रवासी मजदूरों से बढ़ा संक्रमण

बिहार में कोरोना संक्रमण के अब तक 1326 मामले सामने आए हैं। इनमें से लगभग आधे मामले प्रवासी मजदूरों के हैं। अभी तक कुल 651 प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव मिले हैं और 2 हज़ार से ज़्यादा लोगों की रिपोर्ट आनी बाक़ी है। ज़्यादातर प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र, मुंबई, दिल्ली से आ रहे हैं। ये इलाक़े पहले से ही रेड ज़ोन बने हुए हैं। 

बिहार से और ख़बरें

राज्य में बाहर से लाखों प्रवासी मजदूरों का आना जारी है। राज्य सरकार इतनी सक्षम नहीं है कि वह सभी के कोरोना टेस्ट कर सके। टेस्टिंग की स्थिति भी राज्य में बेहद दयनीय है। लेकिन उससे बड़ी चुनौती इन लोगों को 21 दिन तक क्वारेंटीन सेंटर्स में रखना है। क्योंकि लॉकडाउन के कारण राज्य की अर्थव्यवस्था बदहाल है और ऐसे में नीतीश के माथे पर चिंता की लकीरें गहरी होती जा रही हैं। 

पटना, रोहताश, सारण, नालंदा, मुंगेर, बक्सर, बेगूसराय, मधुबनी, कैमूर, भागलपुर, सिवान, खगड़िया, भोजपुर, नवादा, बांका, गोपालगंज जिलों में कोरोना संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा है।

लगातार आलोचना का शिकार हो रहे नीतीश कुमार की सरकार अब डैमेज कंट्रोल की कोशिश में है। राज्य सरकार का कहना है कि वह वापस लौटे प्रवासी मजदूरों को उनकी योग्यता के आधार पर रोज़गार उपलब्ध करवाएगी और स्वरोज़गार के लिए प्रेरित कर रही है। 

क्वारेंटीन सेंटर्स की बदहाली के वीडियो नीतीश के लिए सिरदर्द साबित हो सकते हैं और सरकार से उनकी विदाई का कारण बन सकते हैं क्योंकि इससे सीधा संदेश यही जा रहा है कि ‘सुशासन बाबू’ कोरोना संकट को संभाल पाने में फ़ेल साबित हो रहे हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें