loader

आरजेडी ने जारी की प्रत्याशियों की सूची, दलितों से दूरी, सवर्णों पर दांव

आरजेडी ने बिहार विधान परिषद की 24 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए अपने प्रत्‍याशियों की घोषणा कर दी है। प्रत्‍याशियों के नामों की घोषणा के साथ ही पूर्व सीएम और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) प्रमुख जीतनराम मांझी ने ट्वीट करते हुए लिखा, गजब…गरीबों की पार्टी…गजब… दरअसल, आरजेडी ने संभवतः पहली बार 50 प्रतिशत सवर्णो पर दांव खेला है। सवर्णों मे भी आरजेडी ने अपने धुर-विरोधी भूमिहारों को सबसे ज्यादा महत्व दिया है। 

आरजेडी की ओर से 20 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की गई है। इसमें 10 सवर्ण है। 10 में 5 भूमिहार जाति के प्रत्याशी हैं। चार राजपूत और एक ब्राह्मण को भी पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है। 

इसी प्रकार आरजेडी ने आठ यादव और एक मुसलमान और एक वैश्य को अपना प्रत्याशी बनाया है। पार्टी ने 24 में से एक सीट सीपीआई को दिया है। सीपीआई ने भी अपने प्रत्याशी ने नाम की घोषणा कर दी है। सीपीआई की ओर से भी यादव को ही प्रत्याशी बनाया गया है।

ताज़ा ख़बरें

MY की जगह BY समीकरण 

आरजेडी ने इस दफा अपने परंपरागत MY (मुसलमान+यादव) की जगह BY(भूमिहार + यादव) समीकरण को महत्व दिया है। माई समीकरण के सहारे ही आरजेडी ने बिहार में 15 सालों तक राज किया है। लेकिन पिछले 15 सालों से सत्ता से बाहर रहने के बाद आरजेडी ने MY की जगह BY समीकरण को भी साधने में लगी है। पार्टी को यह पता है कि बिहार के सवर्णों में भूमिहार जाति का सबसे ज्यादा दबदबा है। यही कारण है कि उसने पांच सीटों भूमिहारों को अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि एक सीट पर मुसलमानों को अपना प्रत्याशी बनाया है।

कांग्रेस के वोटर पर आरजेडी की नजर

राजनीतिक पंडितों का कहना है कि आरजेडी ने इस दफा कांग्रेस के कोर वोटरों पर दांव लगाया है। कांग्रेस के परंपरागत वोटरों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए उसने पहली बार 50 प्रतिशत सवर्णों को अपना प्रत्याशी बनाया है।

बिहार से और खबरें
लिस्ट में भूमिहारों के महत्व का इससे भी अंदाज लगाया जा सकता है कि पटना की जिस सीट पर पार्टी ने अनंत सिंह के खास को अपना प्रत्याशी बनाया है उस सीट पर आरजेडी विधायक रितलाल यादव के भाई प्रबल दावेदार थे। इतना ही नहीं पार्टी ने पूरी सूची रविवार को जारी की, जबकि पटना सीट पर अपने प्रत्याशी के नाम की घोषणा एक दिन पहले आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद ने की और पार्टी कार्यकर्ताओं से आग्रह किया कि वे पटना सीट से खड़े पार्टी के उम्मीदवार को हर हाल में जिताये।
राजनीतिक पंड़ितों का कहना है कि इस फैसले के बाद आरजेडी और कांग्रेस के बीच की दूरी और बढ़ेगी। पार्टी के एक बड़े नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर तो यहां तक कह दिया है कि यह प्रयोग सफल रहा तो कांग्रेस के साथ पार्टी हमेशा के लिए अपना गठबंधन तोड़ लेगी।

बीजेपी से सीधे लड़ने की तैयारी

सीनियर पत्रकार लव कुमार मिश्रा का कहना है कि आरजेडी ने एमएलसी चुनाव के साथ लोकसभा चुनाव की भी तैयारी शुरु कर दी है। उसका मानना है कि बिहार में जदयू और कांग्रेस का बहुत खास जनाधार नहीं है।  बिहार की राजनीति में अगर पहले पायेदान पर रहना है तो बीजेपी से दो-दो हाथ करना होगा। यही कारण है कि आरजेडी  ने सवर्णों पर दांव खेलकर बीजेपी के वोटबैंक में सेंघमारी का प्रयास किया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजेश कुमार ओझा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें