loader

नीतीश के साथ आएंगे कुशवाहा, जेडीयू में मिलेगा बड़ा पद!

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में जेडीयू के ख़राब प्रदर्शन के बाद से ही पार्टी के मुखिया नीतीश कुमार ने दूर जा चुके सहयोगियों को क़रीब लाने की कोशिश शुरू कर दी थी। इनमें पहला नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा का था। नीतीश को उनकी इन कोशिशों में कामयाबी मिलती दिख रही है क्योंकि बहुत जल्द कुशवाहा वापस आ सकते हैं। कुशवाहा की पार्टी आरएलएसपी का जेडीयू में विलय होगा, यह बात भी कही जा रही है। 

ख़बरों के मुताबिक़, कुशवाहा को जेडीयू में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। 2020 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 74, आरजेडी को 75 और जेडीयू को 43 सीटें मिली थीं। 

ताज़ा ख़बरें

अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के छह विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार परेशान दिख रहे हैं। कैबिनेट के विस्तार के लिए उन्हें लंबे वक़्त तक बीजेपी का मुंह देखना पड़ा था। इससे पहले जब भी वे बीजेपी के साथ रहे, कभी भी इतने कमजोर नहीं दिखाई दिए। नीतीश ने बीते दिनों संगठन की कमान अपने क़रीबी आरसीपी सिंह को सौंप दी थी। 

ऐसे में जब बीजेपी-जेडीयू के रिश्तों को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है तो नीतीश कुमार अपने सियासी कुनबे को मजबूत करने में जुटे हैं और पुराने सहयोगियों को पार्टी में वापस ला रहे हैं।

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, बीते कुछ दिनों में कुशवाहा और जेडीयू के राज्यसभा सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह की कई बार मुलाक़ात हो चुकी है। कुशवाहा के साथ आने से नीतीश का कुर्मी-कोइरी-कुशवाहा गठजोड़ मजबूत होगा। इन बिरादरियों का वोट नीतीश के साथ ही खड़ा रहा है। 

RLSP JDU soon merger in bihar  - Satya Hindi

2013 में बनाई थी आरएलएसपी 

कुशवाहा कभी नीतीश कुमार के ही साथ थे लेकिन मार्च 2013 में उन्होंने आरएलएसपी का गठन किया था और 2014 के लोकसभा चुनाव में बिहार में तीन सीटें जीती थीं। उसके बाद वे मोदी सरकार में मंत्री भी रहे लेकिन 2019 में सीट बंटवारे से नाख़ुश होकर उन्होंने एनडीए छोड़ दिया था। इसके बाद उन्होंने यूपीए के साथ मिलकर लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन उनकी पार्टी को कोई सीट नहीं मिली थी। 

2020 के विधानसभा चुनाव में कुशवाहा ने कुछ छोटे दलों के साथ मिलकर ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेकुलर फ्रंट बनाया था। इस फ्रंट में बीएसपी, एआईएमआईएम सहित कुछ और दल शामिल थे। कुशवाहा इस फ्रंट की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार थे।

बिहार की सियासी चर्चाएं

बिहार के राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा जोरों पर है कि बीजेपी नीतीश को दबाव में रखना चाहती है। बीजेपी ने सबसे पहले नीतीश के सबसे प्रबल समर्थक माने जाने वाले सुशील मोदी को दिल्ली भेज दिया, संघ की पृष्ठभूमि से आने वाले दो लोगों को डिप्टी सीएम बना दिया और फिर जेडीयू के कोटे से मंत्री मेवालाल चौधरी का इस्तीफ़ा लेने को भी नीतीश को मजबूर कर दिया। 

बिहार से और ख़बरें
नीतीश जानते हैं कि बीजेपी से सतर्क रहना ज़रूरी है क्योंकि राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि जेडीयू-कांग्रेस में टूट हो सकती है और इनके विधायक बीजेपी के साथ जा सकते हैं। हालांकि ये अभी सिर्फ़ सियासी चर्चाएं ही हैं लेकिन कई राज्यों में दूसरे दलों के विधायकों के टूटकर बीजेपी के साथ जाने के बाद इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि बिहार भी इसका गवाह बने। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें