loader
महिलाओं की प्रताड़ना वाले वायरल वीडियो का ग्रैब।

बिहार: डायन बताकर महिलाओं को पेशाब पिलाया, पीटा, ग्रामीण देखते रहे

बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में तीन महिलाओं के साथ अमानवीयता की सारी हदें पार कर दी गईं। डायन बताकर। बंधक बनाया गया। पीटा गया। अर्द्धनग्न किया गया। बाल काटे गए। फिर मुंडन भी कर दिया गया। पेशाब पिलाया गया और कथित तौर पर मैला भी खिलाया गया। खुलेआम। बड़ी संख्या में ग्रामीणों के सामने। लेकिन न तो किसी की संवेदनाएँ जागीं और न ही किसी को रहम आया। तर्क और वैज्ञानिक सोच की तो दूर-दूर तक बात ही नहीं है!

इस पूरे घटना का किसी ने वीडियो बना लिया। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसके बाद पुलिस हरकत में आई। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (पूर्वी) अमितेश कुमार ने बताया कि घटना मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले के दकरामा गाँव में सोमवार को हुई थी। इसके एक दिन बाद ही मंगलवार को 10 लोगों के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज की गई और 9 आरोपियों को गिरफ़्तार भी किया गया। बाद की रिपोर्टों में कहा गया कि 15 लोगों के ख़िलाफ़ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गई है। 

ताज़ा ख़बरें

वैसे यह कोई अकेला ऐसा मामला नहीं है। डायन बताकर यौन अत्याचार करना, उनके बाल काट देना, मुंडन कर देना, अर्द्धनग्न या कई बार पूरी तरह नग्न भी कर देना और फिर गाँव से बहार निकाल देने की घटनाएँ ग्रामीण क्षेत्रों से अक्सर आती रही हैं। लेकिन इसमें ख़ास बात यह है कि डायन सिर्फ़ महिलाएँ ही क़रार दी जाती हैं और वह भी ग़रीब और पिछड़े वर्ग, आदिवासी और दलित समुदाय की महिलाएँ ही। जिनको डायन कहा भी जाता है उनपर आरोप लगाए जाते हैं- पूजा करने को भी डायन बनने की प्रक्रिया क़रार देना, गाय ने दूध देना बंद कर दिया, कुँए में पानी सूख गया, किसी बच्चे की मौत हो गई आदि। ऐसे ही अन्धविश्वासों के कारण महिलाओं को डायन घोषित कर देने के मामले आते रहे हैं। अब जो मुज़फ़्फ़रपुर में हुआ है, वह भी कुछ ऐसा ही है। 

मुज़फ़्फ़रपुर की घटना का एक कथित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसे विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल ने भी ट्विटर पर रीट्वीट किया है। पुलिस के अनुसार घटना के दिन उस बारे में पुलिस को न तो पीड़ितों ने बताया और न ही ग्रामीणों ने जानकारी दी। 

लेकिन मुज़फ़्फ़रपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती तीन में से एक पीड़िता 55 वर्षीय माया देवी ने 'द प्रिंट' से कहा कि डायन होने के संदेह में उनको और उनके दो रिश्तेदारों को लाठियों से पिटाई की गई और वहाँ मौजूद बड़ी संख्या में ग्रामीणों से कोई भी बचाने नहीं आया। माया देवी के बेटे भुट्टा सहनी कहते हैं कि वे डरे हुए थे इसलिए पुलिस में शिकायत नहीं कर पाए। उन्होंने यह भी कहा कि दो अन्य पीड़ित महिलाएँ पास के गाँव की रिश्तेदार थीं और दोनों घटना के बाद अपने-अपने घर चली गईं।

बिहार से और ख़बरें

महिला के परिवार के सदस्य कहते हैं कि 4 मई की रात को ये महिलाएँ पूजा कर रही थीं तभी ग्रामीणों ने डायन का संदेह जता कर उन्हें पकड़ लिया। इसके बाद उन्हें बांध दिया गया और एक कमरे में बंद कर दिया गया। सुबह उन्हें पीटा गया और प्रताड़ित किया गया। 'द प्रिंट' की रिपोर्ट के अनुसार, पीड़ित महिला के परिवार की सदस्य रंगीला देवी कहती हैं कि 'हम ग़रीब हैं इसलिए वे हमारे साथ कुछ भी कर सकते हैं। वे हमें धमकी देते रहे हैं। वे आरोप लगाते रहते थे कि वे डायन हैं लड़कों और पतियों को नुक़सान पहुँचाया है और इसलिए उन्हें गाँव में नहीं रहने देना चाहिए।' 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें