loader

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के पिता गिरफ़्तार, 15 दिनों की हिरासत में

छत्तीसगढ़ पुलिस ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल को ब्राह्मणों के खिलाफ़ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया है। उन्होंने अदालत में ज़मानत की अर्जी देने से इनकार कर दिया। रायपुर की एक अदालत ने उन्हें 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। 

नंद कुमार बघेल ने ज़मानत लेने से इनकार करते हुए कहा, "मेरी आमने सामने की लड़ाई है। हम ज़मानत नहीं लेना चाहते हैं और जेल से डरते नहीं हैं।"

मुख्यमंत्री के 86 वर्षीय पिता पर आरोप है कि उन्होंने लखनऊ में ब्राह्मणों के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा था नंद कुमार बघेल ने?

नंद कुमार बघेल ने कथित रूप से कहा था, "ब्राह्मणों को गंगा से वोल्गा भेज दिया जाना चाहिए। वे विदेशी हैं। वे हमें अछूत कहते हैं और हमारे तमाम हक़ हमसे छीनते जा रहे हैं। मैं गाँव वालों से अपील करूंगा कि वे ब्राह्मणों को गाँव में न घुसने दें।" 

बता दें कि वोल्गा नदी रूस में बहती है। 

इस पर ब्राह्मण समाज ने उनके ख़िलाफ़ रविवार को रायपुर के एक थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

chhattisgarh cm bhupesh baghel father nand kumar baghel arrested - Satya Hindi

क्या हैं आरोप?

छत्तीसगढ़ पुलिस ने नंद कुमार बघेल के ख़िलाफ़ समुदायों के बीच शत्रुता, घृणा या वैमनस्य की भावना पैदा करने और सामाजिक तनाव बढ़ाने के आरोप लगाए थे। उनके ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की धारा 505 और 153 ए के तहत मामला दर्ज किया गया था। 

भूपेश बघेल ने इसके पहले कहा था, "एक पुत्र के रूप में मैं उनका सम्मान करता हूँ, लेकिन एक मुख्यमंत्री के रूप में उनकी किसी भी ऐसी ग़लती को माफ़ नहीं किया जा सकता जो सार्वजनिक व्यवस्था को बिगाड़ने वाली हो। मेरी सरकार में कोई भी क़ानून से ऊपर नहीं है फिर चाहे वह मुख्यमंत्री के 86 साल के पिता ही क्यों न हो।"

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि 'हमारे राजनीतिक विचार एवं मान्यताएँ भी बिल्कुल अलग अलग हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें