loader

चुनावी पोस्टरों-बैनरों से क्यों ग़ायब रही मोदी की तसवीर?

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हो चुका है। इस चुनाव में एक अज़ीब बात हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तसवीर बीजेपी के बैनर-पोस्टरों से ग़ायब रही। चुनाव मुख्यमंत्री रमन सिंह के आसपास ही सिमटकर रह गया। विधानसभा चुनाव में पीएम ने इस बार कुल चार सभाओं को संबोधित किया जबकि पिछली बार उन्होंने राज्य में एक दर्ज़न सभाएँ की थीं।

सियासी गलियारों में है चर्चा

सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि आख़िर क्यों पीएम मोदी ने इतनी कम सभाएँ कीं। और तो और पार्टी की प्रचार सामग्री में इक्का-दुक्का को छोड़ दें तो ज्यादातर विज्ञापनों और बैनर-पोस्टरों में मोदी जी की तसवीर नहीं दिखी।अब ऐसा क्यों हुआ इसका सही जवाब तो बीजेपी के नेता ही दे सकते हैं। राज्य की बीजेपी इकाई की इस बारे में दलील है कि पिछली बार नरेंद्र मोदी पीएम इन वेटिंग थे, लेकिन इस विधानसभा चुनाव में वे प्रधानमंत्री पद की व्यस्तताओं के चलते उतना वक़्त नहीं दे पाए। पार्टी की यह भी दलील है कि प्रधानमंत्री की इस तरह से तुलना करना ठीक नहीं है क्योंकि पीएम बनने के बाद वे कई बार छत्तीसगढ़ आए हैं।
why pm modi picture was out of poster banner in chhattisgarh - Satya Hindi
बहरहाल बीजेपी की यह दलीलें विरोधी दलों के राजनेताओं को नागवार गुज़र रही हैं। उनका कहना है कि मोदी का जादू अब दिनों दिन खत्म हो रहा है और नोटबंदी, कालाधन, जीएसटी, महँगाई, डीजल-पेट्रोल के दामों में वृद्धि और अन्य कारणों के चलते आम जनता के बीच उनकी साख काफ़ी गिरी है। विपक्षी नेताओं के अनुसार, लिहाज़ा प्रधानमंत्री के बैनर-पोस्टरों से कहीं बीजेपी को ख़ामियाज़ा न भुगतना पड़ जाए, इसलिए पार्टी ने मुख्यमंत्री रमन सिंह को ही छत्तीसगढ़ में मुख्य स्टार प्रचारक के तौर पर प्रोजेक्ट किया। रमन सिंह ने चुनाव में 123 जनसभाओं को संबोधित किया जबकि पीएम मोदी ने सिर्फ़ चार सभाओं को। इसे लेकर राज्य की राजनीति में तरह-तरह की चर्चाएँ हैं। ख़ैर, चुनाव परिणाम 11 दिसंबर को आएँगे। शायद तभी इस सवाल का जवाब मिलेगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें