loader

शादी और कनफ्यूजन के चक्कर में कमज़ोर रह गई 'गिन्नी वेड्स सनी' की कहानी

फ़िल्म- गिन्नी वेड्स सनी

डायरेक्टर- पुनीत खन्ना

स्टार कास्ट- यामी गौतम, विक्रांत मैसी, आयशा रज़ा मिश्रा, सुहैल नैयर, राजीव गुप्ता

स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म- नेटफ्लिक्स

रेटिंग- 2/5

ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म नेटफ्लिक्स पर फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' रिलीज़ हो चुकी है और फ़िल्म का निर्देशन पुनीत खन्ना ने किया है। फ़िल्म की कहानी सुमित अरोड़ा और नवजोत गुलाटी ने लिखी है। इसमें लीड रोल में यामी गौतम, विक्रांत मैसी और आयशा रज़ा मिश्रा हैं। आज कल के जनरेशन की यह दिक्कत है कि वो अपने माँ-बाप की भी नहीं सुनते और अपने रिलेशनशिप स्टेटस और शादी को लेकर कनफ्यूजन में रहते हैं। यह बात इस फ़िल्म में कही गई है। लेकिन जब फ़िल्म के नाम से पता चल रहा है कि गिन्नी और सनी की शादी होनी ही है तो कनफ्यूज़न क्या है। आइये जानते हैं फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' की कहानी-

फ़िल्म समीक्षा से ख़ास

फ़िल्म की कहानी

दिल्ली में रहने वाला सनी सेठी (विक्रांत मैसी) बस शादी करके अपना रेस्टोरेंट खोलना चाहता है। उसके पिता (राजीव गुप्ता) का कहना है कि जब शादी कर लेगा तब हार्डवेयर की दुकान बेचकर होटल खुलवा देंगे। दूसरी तरफ गिन्नी (यामी गौतम) है जो लव मैरिज करना चाहती है लेकिन उसकी माँ (आयशा रज़ा मिश्रा) रोज़ नए रिश्ते उसके लिए लेकर आती रहती है। इसके साथ ही गिन्नी अपने एक्स-ब्वॉयफ्रेंड निशांत (सुहैल नैयर) को लेकर भी कन्फ्यूजन में है। गिन्नी की माँ सनी को उनकी बेटी से शादी करने का प्रस्ताव देती है और गिन्नी को मनाने के हर तरीक़े अजमाती है। किसी तरह से गिन्नी और सनी की ‘राम मिलाय जोड़ी’ वाली कहानी बनने वाली होती है कि निशांत बीच में आ जाता है और फिर से शुरू हो जाता है कनफ्यूज़न। शादी और रिलेशनशिप में आ रहे कनफ्यूज़ को कैसे दूर करेगी गिन्नी? क्या वह निशांत से ही शादी कर लेगी या सनी के साथ जायेगी? क्या सनी की शादी हो पायेगी और रेस्टोरेंट खोलने का सपना पूरा होगा? ये सब जानने के लिए आपको नेटफ्लिक्स पर फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' देखनी पड़ेगी। यह फ़िल्म 2 घंटे की है।

निर्देशन

निर्देशक पुनीत खन्ना ने अगर फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' की कहानी में कुछ नयापन लाने की कोशिश की होती तो शायद उनकी मेहनत बर्बाद नहीं होती। 'शादी में ज़रूर आना', 'तनु वेड्स मनु' जैसी फ़िल्में बना चुके निर्माता विनोद बच्चन को शायद शादी वाली कहानियाँ ज़्यादा पसंद आती हैं। इसलिए उन्होंने 'गिन्नी वेड्स सनी' को प्रोड्यूस किया लेकिन इस बार की कहानी में कुछ नया नहीं है।

ginny weds sunny film review - Satya Hindi

एक्टिंग

यामी गौतम ने ख़ूबसूरत पंजाबी और दिल्ली वाली लड़की का किरदार बख़ूबी निभाया है। विक्रांत मैसी में अब हर किरदार को जीने की कला आ गई है। एक्टर के सामने कोई भी रोल हो वो उसे बेहद शानदार तरीक़े से पेश करना जानते हैं। इस फ़िल्म में भी उनकी एक्टिंग काफ़ी अच्छी है। आयशा रज़ा मिश्रा ने माँ के किरदार में अच्छा अभिनय किया है। सुहैल नैयर और राजीव गुप्ता ने भी अच्छा काम किया है। 

फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' को आप बिना दिमाग़ लगाये एक बार देख सकते हैं। बॉलीवुड में पहले भी रॉम-कॉम फ़िल्में बनती आ रही हैं और फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' भी उनमें से एक है। अगर आपको हल्की-फुल्की कॉमेडी और शादी वाली फ़िल्में देखना पसंद हो, जिसमें न ज्यादा रोमांस हो और न एक्शन तो ये फ़िल्म आपको जरा भी निराश नहीं करेगी। इस वीकेंड पर कोई अच्छे कंटेंट वाली फ़िल्म देखना चाहते हैं तो फ़िल्म 'गिन्नी वेड्स सनी' की कहानी आपको बोर करेगी। क्योंकि इस फ़िल्म की कहानी काफ़ी स्लो है और इसमें कुछ भी नया नहीं है। कमज़ोर कहानी की वजह से यामी गौतम और विक्रांत मैसी की मेहनत भी बर्बाद होती नज़र आती है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें