loader

दिल्ली: महंगे ईंधन के खिलाफ ऑटो, कैब ड्राइवर हड़ताल पर

पेट्रोल, डीजल और सीएनजी की कीमतों में हुई बढ़ोतरी के खिलाफ ऑटो, टैक्सी और कैब ड्राइवर 2 दिन की हड़ताल पर चले गए हैं। यह हड़ताल सोमवार और मंगलवार को रहेगी। निश्चित रूप से इससे दिल्ली व एनसीआर में बड़ी संख्या में आम लोगों को परेशानी होगी।

ऑटो और कैब चालकों के कई संगठनों ने मांग की है कि पेट्रोल, डीजल और सीएनजी की कीमतों में जो बढ़ोतरी हुई है उसे वापस लिया जाए। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने चालकों को इस मसले को हल करने का भरोसा दिया था लेकिन फिर भी तमाम संगठन हड़ताल पर चले गए हैं।

दिल्ली की कई ऑटो टैक्सी एसोसिएशन का दावा है कि बड़ी संख्या में ऑटो और टैक्सी चालक उनके साथ जुड़े हुए हैं और 2 दिन तक वे अपनी सेवाएं बंद रखेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ के महासचिव राजेंद्र सोनी ने एएनआई से कहा कि केंद्र व दिल्ली सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र भी लिखा गया था लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला।

सीएनजी में सब्सिडी दी जाए

सोनी ने कहा कि वे किराया नहीं बढ़ाना चाहते क्योंकि इससे आम आदमी की जेब पर असर पड़ेगा। उनकी यह भी मांग है कि सरकार सीएनजी की कीमतों में सब्सिडी दे। उन्होंने कहा कि सरकार को सीएनजी प्रति किलो पर 35 रुपए की सब्सिडी देनी चाहिए। दिल्ली में सीएनजी की कीमत 71.61 रुपए प्रति किलो है। 

ग्रामीण सेवा, ई रिक्शा हड़ताल से बाहर 

हालांकि कई संगठन ऐसे भी हैं जो इस हड़ताल में शामिल नहीं हैं। राजधानी चालक कल्याण एसोसिएशन के अध्यक्ष चंदू चौरसिया ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि ग्रामीण सेवा और ई रिक्शा 18 और 19 अप्रैल की हड़ताल में भाग नहीं लेंगे और अपना काम जारी रखेंगे। हालांकि उन्होंने सीएनजी में सब्सिडी दिए जाने की मांग का समर्थन किया। 

सात साल से नहीं बढ़ा किराया 

दिल्ली की सर्वोदय ड्राइवर एसोसिएशन के अध्यक्ष कमलजीत गिल ने कहा है कि ओला और उबर कैब के चालक भी 18 अप्रैल से हड़ताल पर हैं। उन्होंने कहा कि 2015 के बाद से किराया नहीं बढ़ाया गया है जबकि सीएनजी और पेट्रोल की कीमतें आसमान छू रही हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ, हैदराबाद, कोलकाता और मुंबई में भी हड़ताल को समर्थन मिल रहा है और वहां भी कैब चालक मंगलवार को हड़ताल पर रहेंगे। 

दिल्ली से और खबरें
बता दें कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के कुछ दिन बाद ही पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़नी शुरू हुई थी और इनमें हुई अच्छी खासी बढ़ोतरी से आम आदमी की जेब पर सीधा असर पड़ा है।इसके साथ ही सीएनजी की कीमत भी बढ़ी थी और अब ऑटो टैक्सी कैब ड्राइवर चाहते हैं कि इनकी कीमतें कम की जाएं। देखना होगा कि दिल्ली और केंद्र सरकार इस मामले में ऑटो टैक्सी कैब चालकों को राहत देने के लिए क्या कदम उठाती हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें