loader

दिल्ली में मंकीपॉक्स का पहला मामला मिला

दिल्ली में मंकीपॉक्स वायरस का पहला मामला सामने आया है। यह एक ऐसे मरीज में मिला है, जिसका कोई यात्रा इतिहास नहीं है। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज में भर्ती 31 वर्षीय शख़्स को बुखार और त्वचा पर घाव हैं। ताज़ा रिपोर्ट्स के मुताबिक़, वह शख्स हाल ही में हिमाचल प्रदेश से लौटा था।

यह मामला विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा मंकीपॉक्स को अंतरराष्ट्रीय चिंता का वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करने के एक दिन बाद आया है। भारत में अभी तक चार मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से तीन मामले केरल के हैं। मंकीपॉक्स के लिए देश में सोलह प्रयोगशालाएँ समर्पित हैं, इनमें से केवल दो केरल में हैं।

ताज़ा ख़बरें

शनिवार को एक मीडिया ब्रीफिंग में डब्ल्यूएचओ ने जानकारी दी कि 75 देशों से अब तक 16,000 से अधिक मामले और पांच मौतें हो चुकी हैं। संगठन ने सभी देशों से इस बीमारी के ख़िलाफ़ लड़ने का आह्वान किया है। डब्ल्यूएचओ का आकलन है कि मंकीपॉक्स का जोखिम विश्व स्तर पर और सभी क्षेत्रों में अभी धीमा है लेकिन यूरोपीय क्षेत्रों में जोखिम का आकलन बहुत ज़्यादा है। डब्ल्यूएचओ महासचिव डॉ. टेड्रोस अदनोम ने सावधानी बरतने को कहा है।

उन्होंने कहा कि इस बीमारी के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलने का ख़तरा है। बीमारियाँ इन्फेक्शन के ज़रिए फैल रही हैं, जिसके बारे में हम बहुत कम समझते हैं। इन सभी कारणों से मैंने फ़ैसला किया है कि मंकीपॉक्स के ग्लोबल प्रकोप को देखते हुए इसे पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया जाए। यह घोषणा अंतरराष्ट्रीय चिंताओं को दिखाती है।

मंकीपॉक्स के लक्षण

यह सिरदर्द और बुखार से शुरू होता है। ये सामान्य चीजें हैं जो एक वायरल संक्रमण होने पर शरीर में होती हैं। संक्रमण होने से शरीर की रक्षा प्रणाली काम शुरू करती है और इस वजह से सिरदर्द और बुखार होता है। सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द होता है। फिर, एक या दो सप्ताह के भीतर कुछ लोगों के शरीर पर दाने हो जाते हैं जो फुंसी के रूप में उठ आते हैं। लेकिन जब शरीर की रक्षा प्रणाली पूरी तरह एक्टिव हो जाती है तो वह उस संक्रमण को ख़त्म कर देती है। लेकिन इसके लिए मरीज की अच्छी तरह डॉक्टर की देखभाल की ज़रूरत होती है।
मंकीपॉक्स एक वायरल बीमारी है जिसमें चेचक जैसे लक्षण होते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, यह आमतौर पर दो-चार सप्ताह तक दिखने वाले लक्षणों के साथ एक अपने आप ठीक होने वाली बीमारी है।

मंकीपॉक्स एक संक्रामक बीमारी है जो संक्रमित जानवरों, आमतौर पर रोडेंट से मनुष्यों में फैलती है।

वायरस संक्रमित व्यक्ति या जानवर के निकट संपर्क में आने से लोगों में फैलता है। वायरस को पहली बार 1958 में मैकाक के एक समूह में खोजा गया था, जिसका अध्ययन अनुसंधान उद्देश्यों के लिए किया जा रहा था।

दिल्ली से और ख़बरें
यह आम तौर पर अफ्रीका में उत्पन्न होने वाली एक दुर्लभ बीमारी है। लेकिन कभी कभी अफ्रीका के बाहर भी इसके मामले सामने आए हैं। 2003 में अमेरिका में कम से कम 71 मामले आए थे। तब मंकीपॉक्स किसी यात्री से नहीं फैला था, बल्कि अफ्रीकी देश घाना से आयात किए गए रोडेंट (चूहे) की वजह से फैला था। उन रोडेंट ने तब पालतू कुत्तों को संक्रमित किया, और फिर अमेरिकी लोग संक्रमित हुए।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें