loader

ट्रैक्टर रैली बाधित करने के लिए पाक में 300 ट्विटर हैंडल बने: पुलिस

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसान गणतंत्र दिवस पर जो ट्रैक्टर परेड निकालने वाले हैं, उस मामले में दिल्ली पुलिस ने कहा है कि पाकिस्तान से उसको बाधित करने की तैयारी थी। इसने दावा किया है कि इस ट्रैक्टर परेड को हाइजैक करने और बाधित करने के लिए पाकिस्तान में 300 से ज़्यादा ट्विटर हैंडल बनाए गए। पुलिस ने रविवार को ही किसानों की ट्रैक्टर परेड के लिए हरी झंडी दी है और इसके लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की है।

दिल्ली पुलिस ने रविवार को दावा किया कि गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली को बाधित करने के लिए बनाए गए उन ट्विटर हैंडलों को पाकिस्तान में ट्रेस किया गया है।

ताज़ा ख़बरें

विशेष पुलिस आयुक्त (खुफिया) दीपेंद्र पाठक ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा कि किसानों की ट्रैक्टर परेड को बाधित करने के लिए 13 से 18 जनवरी के दौरान पाकिस्तान से 308 ट्विटर अकाउंट बनाए गए। विभिन्न एजेंसियों से जानकारी मिलने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य होगा।

उन्होंने आगे कहा कि ख़तरे की आशंका यह है कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह कुछ संकट पैदा कर सकते हैं। शरारती तत्व क़ानून-व्यवस्था की स्थिति पैदा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि उन ट्विटर अकाउंट से वैसे हैशटैग चलाए जा रहे हैं जो किसानों के प्रदर्शन और ट्रैक्टर रैली से जुड़े हैं।
पुलिस ने किसान संगठनों के नेताओं से राष्ट्रीय राजधानी से बाहर ट्रैक्टर परेड निकालने को कहा था। लेकिन वे दिल्ली के बाहरी रिंग रोड पर ही परेड के लिए अड़े हुए थे। पुलिस और किसानों के बीच हुई चौथे दौर की बातचीत में दोनों पक्षों के बीच परेड पर सहमति बनी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्पेशल सीपी (इंटेलिजेंस) दीपेंद्र पाठक ने कहा, 'हमने भारतीय किसान यूनियन के नेताओं के साथ विचार-विमर्श किया और इस बात पर सहमति है कि वे राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह के बाद अपना मार्च करेंगे। परेड के दौरान कोई गड़बड़ी नहीं होनी चाहिए। हम उन्हें पर्याप्त सुरक्षा देंगे; उनका मार्च शांतिपूर्ण होगा और आख़िर में वे सीमा पर लौट आएंगे।' पुलिस किसानों को रोकने के लिए लगाए गए बैरिकेड को 26 जनवरी को हटाएगी। 

दिल्ली से और ख़बरें

बीते कई दिनों से इसे लेकर किसान नेताओं और पुलिस के बीच बातचीत चल रही थी। किसानों ने पुलिस से कहा है कि वे दिल्ली की बाहरी रिंग रोड पर ट्रैक्टर परेड निकालेंगे और गणतंत्र दिवस समारोह में किसी भी तरह की रुकावट पैदा नहीं करेंगे। किसान नेताओं ने कहा है कि उनकी यह परेड पूरी तरह शांतिपूर्ण रहेगी।

वीडियो में देखिए, अब क्या होगा किसानों का?

संयुक्त किसान मोर्चा ने रविवार को कहा कि झांकी के साथ केवल ट्रैक्टर और ट्रॉलियों को मार्च में अनुमति दी जाएगी; किसी को भी हथियार नहीं रखना चाहिए, लाठियाँ भी नहीं; एक ट्रैक्टर पर अधिकतम 5 लोग सवार हो सकते हैं। कोई भी ट्रैक्टर के बोनट, बम्पर या छत पर नहीं चढ़ेगा।

नए कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान प्रदर्शन कर रहे हैं, जिनमें से अधिकतर पंजाब, हरियाणा तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें