loader

मुख्य चुनाव अधिकारी ने दिल्ली पुलिस से कहा - कपिल मिश्रा के ख़िलाफ़ दर्ज हो एफ़आईआर

दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी ने दिल्ली पुलिस से कहा है कि बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की जाए। मिश्रा ने ट्वीट कर कहा था कि 8 फ़रवरी को दिल्ली की सड़कों पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान का मुक़ाबला होगा।' दिल्ली में 8 फ़रवरी को मतदान होना है। 

इससे पहले चुनाव आयोग ने ट्विटर से मिश्रा के दो ट्वीट हटाने के लिए कहा था। इन्हें साम्प्रदायिकता फैलाने वाला माना गया था। चुनाव आयोग ने कहा था कि कपिल मिश्रा के ये ट्वीट चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करते हैं। विवाद के बीच कपिल मिश्रा ने ट्वीट को डिलीट करने से इनकार कर दिया था।

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली चुनाव के लिए पर्चा भरने वाले कपिल मिश्रा ने एक दिन पहले ही दिल्ली में नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ चल रहे विरोध-प्रदर्शन पर एक विवादित ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था, 'दिल्ली में छोटे-छोटे पाकिस्तान बने। शाहीन बाग़ में पाकिस्तान की एंट्री।' ट्वीट में कपिल मिश्रा ने लिखा था, 'आप (आम आदमी पार्टी) और कांग्रेस ने शाहीन बाग़ जैसे मिनी पाकिस्तान खड़े किए हैं जवाब में 8 फ़रवरी को हिंदुस्तान खड़ा होगा। जब जब देशद्रोही भारत में पाकिस्तान खड़ा करेंगे तब तब देशभक्तों का हिंदुस्तान खड़ा होगा।' 

चुनाव आयोग ने इस ट्वीट को काफ़ी ज़्यादा आपत्तिजनक माना। आयोग ने कहा कि यह ट्वीट 'सांप्रदायिक भावना को उकसाता' है।

election commission asks twitter to remove kapil mishra communal tweet - Satya Hindi
इससे पहले 22 जनवरी के एक ट्वीट में मिश्रा ने चुनाव को 'भारत बनाम पाकिस्तान' क़रार दिया था। इस पर चुनाव आयोग ने नोटिस में चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का ज़िक्र करते हुए कहा कि मिश्रा का बयान क़ानून का उल्लंघन करने वाला है क्योंकि उनका बयान 'समुदायों के बीच तनाव पैदा करने वाला या आपसी घृणा पैदा करने वाला या मतभेद को और बढ़ाने वाला' है।
दिल्ली से और ख़बरें
चुनाव आयोग के नोटिस में एक दिन के अंदर अपना जवाब देने को कहा गया है। इस पर कपिल मिश्रा ने ट्विटर पर जवाब दिया और लिखा कि उन्होंने उस नोटिस का जवाब दे दिया है। उन्होंने लिखा है कि मेरे बयानों को ग़लत संदर्भ में लिया गया है और ग़लत मतलब निकाला गया है। उन्होंने इसमें तर्क दिया है कि शाहीन बाग़ न तो मेरे विधानसभा क्षेत्र में है और न ही वहाँ के लोग मेरे वोटर हैं। हालाँकि उन्होंने विरोध-प्रदर्शन में पाकिस्तान का हाथ होने का दावा किया है। मिश्रा ने चार पन्नों का जवाब दाखिल किया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें