loader

सिसोदिया छापेमारी: हमारी ख़बर ग्राउंड रिपोर्टिंग पर आधारित- NYT

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर पर सीबीआई की छापेमारी के मामले में आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार की ओर से अमेरिका के प्रतिष्ठित अख़बार द न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट का बार-बार जिक्र किया गया। बीजेपी नेताओं के द्वारा इस रिपोर्ट पर सवाल उठाए जाने के बाद न्यूयॉर्क टाइम्स ने इस मामले में बयान जारी किया है। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि जिस दिन अमेरिका के सबसे बड़े अख़बार न्यूयॉर्क टाइम्स के फ़्रंट पेज पर दिल्ली के शिक्षा मॉडल की तारीफ़ और मनीष सिसोदिया की तस्वीर छपी, उसी दिन सिसोदिया के घर पर केंद्र सरकार ने सीबीआई भेज दी।

ताज़ा ख़बरें

लेकिन दिल्ली बीजेपी के नेताओं ने इस रिपोर्ट पर सवाल उठाए थे। दक्षिणी दिल्ली से बीजेपी के सांसद और वरिष्ठ नेता रमेश बिधूड़ी ने कहा था कि न्यूयार्क टाइम्स और खलीज टाइम्स में कोई खबर नहीं छपी है बल्कि वह आर्टिकल है। बिधूड़ी ने कहा था कि अरविंद केजरीवाल देश को यह कहकर गुमराह न करें कि किसी अखबार में खबर छपी है। बीजेपी सांसद ने कहा था कि न्यूयार्क टाइम्स और खलीज टाइम्स में छपी खबर बिल्कुल एक जैसी है।

इस बारे में दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने कहा है कि दोनों अखबारों में आर्टिकल लिखने वाला एक ही आदमी है और शब्द भी एक ही हैं। तिवारी ने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली की जनता का पैसा बर्बाद कर रही है।  

'निष्पक्ष है हमारी रिपोर्ट'

लेकिन न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक बयान जारी कर कहा है, दिल्ली की शिक्षा प्रणाली में सुधार के प्रयासों के बारे में हमारी रिपोर्ट निष्पक्ष, ऑन-द-ग्राउंड रिपोर्टिंग पर आधारित है। शिक्षा एक ऐसा मुद्दा है जिसे द न्यूयॉर्क टाइम्स ने कई वर्षों से कवर किया है। अखबार के प्रवक्ता निकोल टाइलर ने एनडीटीवी से कहा कि द न्यूयॉर्क टाइम्स की पत्रकारिता हमेशा से आजाद है और यह किसी भी तरह के राजनीतिक या विज्ञापनदाता के प्रभाव से भी मुक्त है। 

14 घंटे तक चली छापेमारी

सिसोदिया के घर पर छापेमारी 14 घंटे तक चली। छापेमारी के बाद सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने किसी भी तरह की गड़बड़ी नहीं की है और बीजेपी राजनीतिक मक़सद से केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। सिसोदिया ने कहा कि उनका कंप्यूटर और फोन जब्त कर लिया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें