loader

अस्थाना की नियुक्ति के ख़िलाफ़ दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव पास

दिल्ली पुलिस के कमिश्नर के पद पर राकेश अस्थाना की नियुक्ति का कांग्रेस के बाद आम आदमी पार्टी ने भी विरोध किया है। दिल्ली में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी ने गुरूवार को विधानसभा में अस्थाना की नियुक्ति के ख़िलाफ़ प्रस्ताव पास किया है। प्रस्ताव में कहा गया है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय अस्थाना की नियुक्ति का प्रस्ताव वापस ले। बता दें कि दिल्ली पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आती है। 

अस्थाना को मंगलवार रात को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया गया था। अस्थाना बीएसएफ़ के महानिदेशक पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे और कमिश्नर के पद पर उनकी नियुक्ति रिटायरमेंट से तीन दिन पहले की गई थी। गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि अस्थाना को जनहित में एक साल का सेवा विस्तार दिया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली विधानसभा में यह प्रस्ताव बुराड़ी से विधायक संजीव झा की ओर से लाया गया। झा ने विधानसभा में कहा कि राकेश अस्थाना की नियुक्ति अवैध है। इसके लिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के 2019 के एक फ़ैसले का हवाला दिया। 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मार्च, 2019 के प्रकाश सिंह वाले मामले में कहा था कि ऐसा कोई भी अफ़सर जिसके रिटायरमेंट में 6 महीने से कम का वक़्त बचा हो, उसे किसी भी राज्य में पुलिस का प्रमुख नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए। अस्थाना 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अफ़सर हैं और वह सीबीआई प्रमुख की दौड़ में भी थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट के उपरोक्त फ़ैसले के कारण इस दौड़ से बाहर हो गए थे। 

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने विधानसभा में कहा कि बीजेपी कहना चाहती है कि मोदी सरकार ने अभी तक दिल्ली में जितने भी कमिश्नर नियुक्त किए, वे सब नाकारा, निकम्मे थे और केंद्र में सरकार बनने के सात साल के बाद पहली बार अच्छा अफ़सर लाया गया है। 

विधायक ने उठाए सवाल 

मॉडल टाउन सीट से विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी ने सवाल उठाया कि राकेश अस्थाना को किस खास मिशन के तहत दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे शख़्स को दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया गया है, जिसका पूरा चरित्र दागदार रहा है और नौकरी के दौरान पूरा जीवन एक पार्टी विशेष की सेवा के लिए समर्पित रहा है। 

राकेश अस्थाना के बारे में कहा जाता है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नज़दीकी हैं और इसीलिए उन्हें सीबीआई में विशेष निदेशक बनाया गया था। विशेष निदेशक रहते हुए वह सीबीआई में तमाम बड़े और नीतिगत निर्णय लिया करते थे। लेकिन बाद में सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा से उनकी अनबन हो गई थी। 

दिल्ली से और ख़बरें

दोनों ने एक-दूसरे के ख़िलाफ़ शिकायत की थी और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया था। इसके बाद दोनों को ही पद से हटा दिया गया था। इस मामले से तब मोदी सरकार की ख़ासी किरकिरी हुई थी। 

कांग्रेस ने भी घेरा 

राकेश अस्थाना की दिल्ली पुलिस के कमिश्नर के पद पर नियुक्ति को लेकर कांग्रेस ने भी सवाल उठाए हैं। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर पूछा था कि अस्थाना के पास आख़िर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के ख़िलाफ़ क्या है?

खेड़ा ने कहा था कि पेगासस जासूसी वाली सूची में अस्थाना का नाम आने के बाद उनकी नियुक्ति की गई है। उन्होंने अस्थाना को प्रधानमंत्री मोदी का क़रीबी बताते हुए पूछा कि क्या इसके लिए उन्हें कोई लाभ दिया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें