loader

क्या आलोक वर्मा ने मोदी को भ्रष्ट प्रधानमंत्री बताया? 

सीबीआई के पूर्व निदेशक 'आलोक वर्मा' ने नरेंद्र मोदी को आजाद भारत का सबसे भ्रष्ट प्रधानमंत्री बताया है। इस दावे के साथ एक पोस्ट सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हो रही है। इस पोस्ट को 'आई सपोर्ट रवीश कुमार' नाम के फे़सबुक पेज पर शेयर किया गया है। पोस्ट में इस्तेमाल की गई फ़ोटो पर 'वायरल इन इंडिया' का 'लोगो' लगा हुआ है। वायरल पोस्ट में लिखा गया, 'पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने दिया इस्तीफ़ा, पत्र लिख़कर नरेंद्र मोदी को बताया आज़ाद भारत का सबसे भ्रष्ट प्रधानमंत्री।'

ख़बर लिखे जाने तक इस पोस्ट को 10 हजार लोगो ने 'लाइक' और 14,000 लोगों ने 'शेयर' किया है। वायरल होती पोस्ट पर सुनील नाम के एक फ़ेसबुक यूजर ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, 'आलोक वर्मा अब हनुमानजी की भुमिका में आ गए है हनुमानजी की पूंछ में सरकार द्वारा आग लगा दी गई है। अब लंका दहन होने से कोई नहीं बचा सकता।' इसके अलावा इस पोस्ट पर फ़ेसबुक पर भारी तादत में लोग तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। 

alok verma calls narendra modi corrupt prime minister of the independent india - Satya Hindi

वायरल ख़बर का सच

वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि आलोक वर्मा ने यह बात अपने इस्तीफ़े के बाद सरकार को लिखी गई चिट्ठी में कही है। इसलिए हमने सबसे पहले उस चिट्ठी को ख़ोजने की कोशिश की जो आलोक वर्मा की ओर से सरकार को लिखी गई। चिट्ठी मिलने के बाद हमने पाया कि उसमें  प्रधानमंत्री को कहीं भी भ्रष्ट नहीं बताया गया। 

सोशल मीडिया पर वायरल होती पोस्ट हमारी पड़ताल में झूठी साबित हुई। यहां पर ग़ौर करने वाली बात ये है कि 'वायरल इन इंडिया' नाम की यह साइट अक्सर अफ़वाह फ़ैलाने का काम करती है। इससे पहले हमने झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास की जूतों से पिटाई वाली वायरल ख़बर की पड़ताल की थी, जो कि पूर्ण रुप से फ़र्जी ख़बर थी। उस फ़र्जी ख़बर को इस साइट ने वायरल किया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें