loader

क्या कांग्रेस का मुफ़्त बिजली का वादा मसजिदों के लिए ही था?

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने तेलंगाना की एक चुनावी रैली में कहा है कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में चर्च और मसजिदों को मुफ़्त बिजली देने और अल्पसंख्यकों के लिए स्कूल और कॉलेज खोलने का वादा किया है जबकि हिंदुओं के लिए उसकी कोई योजना नहीं है। उनके अनुसार ऐसा करके कांग्रेस बता रही है कि वह किनकी हितैषी है। टाइम्स नाउ और रिपब्लिक जैसे टीवी चैनलों ने भी ऐसी ख़बरें चलाई हैं। लेकिन क्या वे सच बोल रहे हैं? क्या कांग्रेस ने वास्तव में केवल मुसलमानों और ईसाइयों के लिए बातें की हैं? आइए, हम पड़ताल करते हैं।पहले देखते हैं कि अमित शाह ने रैली में शब्दशः क्या कहा था।
अमित शाह ने  कहा था, ‘मित्रों, कांग्रेस पार्टी कहती है मसजिद और चर्च का लाइट बिल तेलंगाना की सरकार भरेगी| उसमें हमें कोई आपत्ति नहीं है, मगर मंदिरों का क्यों नहीं भरोगे भाई? मंदिरों का भी भरना चाहिए या नहीं भरना चाहिए?' नीचे उनका विडियो देखिए। क़रीब 17 मिनट के बाद अमित शाह यह मुद्दा उठाते हैं।
अब देखते हैं, कांग्रेस के घोषणापत्र में क्या कहा गया है।33. धार्मिक मामले
  • सभी मंदिरों, मसजिदों, गिरजाघरों और दूसरे पूजास्थलों को मुफ़्त बिजली।
  • मंदिरों, मसजिदों और गिरजाघरों की मरम्मत के लिए एक उचित व्यवस्था के तहत राशि दी जाएगी।
  • मंदिरों, मसजिदों और गिरजाघरों की ज़मीन पर किए गए अतिक्रमणों के संबंध में सर्वे किया जाएगा ताकि उनकी संपत्ति की रक्षा की जा सके।
  • 643 मंदिरों के पुजारियों और अन्य कर्मचारियों का दुर्घटना बीमा कराया जाएगा।
congress manifesto was not for only musim in telangana - Satya Hindi
इसी तरह की भ्रामक ख़बरें टाइम्स नाउ और रिपब्लिक टीवी भी चला रहे हैं।अंग्रेजी न्यूज़ चैनल टाइम्स नाउ ने 27 नवंबर, 2018 को एक ख़बर दिखाई थी जिसके अनुसार अनुसार तेलंगाना विधानसभा चुनावों से पहले अल्पसंख्यक समुदाय को लुभाने के लिए कांग्रेस पार्टी ने केवल मुसलिमों के लिए सात योजनाओं का वादा किया है। टाइम्स नाउ के मुताबिक़, कांग्रेस के घोषणा पत्र में चर्च और मसजिदों को मुफ़्त बिजली का वादा, मुसलिम युवाओं को सरकारी ठेकों में विशेष अवसर, ग़रीब मुसलिम छात्रों को 20 लाख रुपये तक की सहायता, मुसलिमों के लिए स्कूल, अल्पसंख्यकों के लिए अस्पताल आदि घोषणाएँ शामिल थीं।
टाइम्स नाउ की प्रबंध संपादक नविका कुमार ने भी कांग्रेस के घोषणा पत्र पर एक शो में कहा, ‘मुस्लिमों के लिए अस्पताल बनाए जाएँगे, मुस्लिमों के लिए स्कूल बनाए जाएँगे’।
अंग्रेजी न्यूज़ चैनल रिपब्लिक ने भी ऐसी ही एक रिपोर्ट की है। रिपोर्ट के अनुसार, “तेलंगाना में कांग्रेस ने केवल मुस्लिमों के लिए स्कूल और अस्पताल, मसजिदों के लिए मुफ़्त बिजली का वादा किया।'
रिपब्लिक चैनल के एडिटर-इन-चीफ़ अरनब गोस्वामी ने भी इस पर एक शो किया था। इसके मुताबिक़, कांग्रेस पार्टी के घोषणापत्र में तेलंगाना में अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुस्लिमों के लिए ही फ़ायदों का वादा किया है। अर्नब गोस्वामी ने भी अपनी बहस में भी मुसलिम छात्रों को 20 लाख रुपये की सहायता का उल्लेख किया है जो ‘विदेश शिक्षा’ के लिए गरीब ‘मुस्लिम’ (अल्पसंख्यक) छात्र को दिया जाएगा। इन ख़बरों मे इसे ‘केवल मुसलिम के लिए’ योजना के रूप में प्रस्तुत किया गया, जबकि घोषणापत्र में इसका दूसरे रूप में उल्लेख है, अल्पसंख्यकों, एससी, एसटी, ईबीसी और ओबीसी छात्रों के लिए।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें