loader

गुजरात के कोविड अस्पताल में आग लगने से 8 लोगों की मौत

गुजरात के अहमदाबाद में कोरोना के इलाज वाले एक निजी अस्पताल में आग लगने से कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई। यह हादसा गुरुवार तड़के क़रीब 3 बजे हुआ। हादसे के बाद मौक़े पर दमकल की गाड़ियाँ पहुँचीं और आग पर काबू पाने का प्रयास शुरू किया। काफ़ी प्रयास के बाद आग पर काबू पा लिया गया। इस हादसे पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि वह घटना से आहत हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन इस घटन में प्रभावित हुए लोगों को हर संभव सहायता उपलब्ध करा रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा है कि मृतकों के परिजनों और घायलों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। 

ताज़ा ख़बरें
मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि यह हादसा अहमदाबाद के नवरंगपुरा क्षेत्र में श्रेय हॉस्पिटल में हुआ। हादसे के बाद क़रीब 40 मरीज़ों को सुरक्षित बाहर निकाला गया और सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 'पीटीआई' की रिपोर्ट के अनुसार मृतकों में वे लोग हैं जो आईसीयू वार्ड में भर्ती थे। 
घटना को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, 'अहमदाबाद में अस्पताल में आग लगने की घटना से दुखी हूँ। शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। घायलों के जल्द ठीक होने की कामना। सीएम विजय रूपानी जी और मेयर बिजाल पटेल जी से स्थिति के बारे में बात की। प्रशासन प्रभावितों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है।'

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि मृतकों में 5 पुरुष और 3 महिलाएँ हैं। मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सभी मरीज कोरोना पॉजिटिव हैं। हालाँकि अभी तक अस्पताल की ओर से इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। बताया जा रहा है कि 40 मरीजों को अस्पताल के दूसरे वार्ड में शिफ्ट किया गया है।

आईएमगुजरात डॉट कॉम वेबसाइट के अनुसार आग अस्पताल के चौथे फ्लोर पर आईसीयू वार्ड में आग लगी। शुरुआती रिपोर्ट में आग की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है।

हादसे के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने आर्थिक मदद की घोषणा की। इसने ट्वीट किया, 'अहमदाबाद के अस्पताल में आग से मारे गए लोगों को पीएमएनआरएफ़ से 2-2 लाख रुपये और घायलों को 50-50 हज़ार रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी।'
इधर गुजरात के मुख्यमंत्री ने हादसे की जाँच के आदेश दिए हैं और इसके लिए ज़िम्मेदारों का पता लगाने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, 'मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रूपानी ने निर्देश दिया है कि अहमदाबाद के नवरंगपुरा इलाके में श्रेय अस्पताल में आग लगने की तुरंत जाँच की जाए और 3 दिनों में रिपोर्ट सौंपा जाए कि यह घटना कैसे हुई और इसके ज़िम्मेदार कौन हैं।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें