loader

हरियाणा: बीजेपी को हराने के लिए हाथ मिलाएंगे कांग्रेस-बीएसपी?

क्या हरियाणा में कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) साथ आ रहे हैं। ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और बीएसपी प्रमुख मायावती के बीच इसे लेकर बातचीत हुई है और इस बारे में जल्द ही कोई एलान हो सकता है। इस ख़बर के आने के बाद से ही हरियाणा का सियासी तापमान बढ़ गया है। चंद दिन पहले ही बीएसपी ने जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) से गठबंधन तोड़ दिया था। 

हरियाणा में बीजेपी की सरकार है और सोमवार को ही मोदी ने रोहतक में रैली कर चुनावी बिगुल फूंका था। मोदी ने कहा था कि रैली में आई भीड़ से हवा का रुख पता चल रहा है और केंद्र व राज्य सरकार के डबल इंजन का पूरा फ़ायदा हरियाणा को मिला है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी जन आशीर्वाद यात्रा के माध्यम से पूरा प्रदेश नाप चुके हैं। 

ताज़ा ख़बरें
बीजेपी को पिछले विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत मिली थी। 2009 में उसे सिर्फ़ 4 सीटों पर जीत मिली थी जबकि 2014 में उसने 47 सीटें झटक ली थीं। जीत पर राजनीतिक विश्लेषकों और हरियाणा के लोगों को ख़ासी हैरानी हुई थी। तब यह माना गया था कि यह मोदी लहर का ही असर है क्योंकि 2014 में मोदी लहर के चलते बीजेपी को अपने दम पर लोकसभा की 282 सीटें मिली थीं और उसके छह माह के भीतर ही हरियाणा में विधानसभा चुनाव हुए थे, ठीक वैसे ही हालात इस बार भी हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में पार्टी प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में से 79 सीटों पर आगे रही थी और इसीलिए वह मिशन 75 प्लस की रणनीति बनाकर उस पर जोर-शोर से काम कर रही है।

गुटों में बंटी है कांग्रेस 

राजनीतिक जानकारों के मुताबिक़, कांग्रेस राज्य में पांच गुटों में बंटी हुई है। इनमें हुड्डा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर, विधानसभा में विपक्ष की नेता रहीं किरण चौधरी और कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला का गुट है। जींद विधानसभा उपचुनाव में जब सुरजेवाला हारे थे तो तब भी यह माना गया था कि गुटबाज़ी के कारण ही उनकी हार हुई है। 

अब सवाल यह है कि क्या बीएसपी के कांग्रेस के साथ आने से हरियाणा में बीजेपी को हरा पाना आसान होगा। बीएसपी को हरियाणा में 6 से 7 फ़ीसदी वोट मिलते रहे हैं और कांग्रेस को उम्मीद है कि गठबंधन होने पर पार्टी को ये वोट मिल सकते हैं और वह बीजेपी को राज्य की सत्ता से बाहर कर सकती है। राजस्थान और मध्य प्रदेश में बीएसपी ने कांग्रेस को समर्थन दिया है। 

हरियाणा से और ख़बरें
लेकिन यहाँ यह भी याद रखना होगा कि लोकसभा चुनाव में महागठबंधन को लेकर कांग्रेस की बीएसपी से तकरार हो चुकी है। दूसरी ओर बीएसपी का कांग्रेस के साथ हरियाणा में गठबंधन कितना चलेगा कहा नहीं जा सकता। 
बीएसपी हरियाणा में इससे पहले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो), बीजेपी के पूर्व बाग़ी सांसद राजकुमार सैनी की पार्टी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी और इनेलो से टूटकर बनी जेजेपी से गठबंधन कर चुकी है लेकिन तीनों ही दलों से उसने बारी-बारी से गठबंधन तोड़ दिया।

जाट-दलित वोटरों पर नज़र 

हरियाणा में क़रीब 25 से 27 फ़ीसदी जाट और 20 फ़ीसदी दलित मतदाता हैं। कांग्रेस ने अशोक तंवर को हटाकर कुमारी शैलजा को प्रदेश अध्यक्ष बनाया है जो दलित समुदाय से हैं वहीं भूपेंद्र सिंह हुड्डा को विधायक दल का नेता और चुनाव प्रबंध समिति का अध्यक्ष बनाकर जाट वोटों को साधने की कोशिश की गई है। जानकारों के मुताबिक़, हुड्डा चाहते थे कि उन्हें प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी जाए लेकिन चूँकि अशोक तंवर दलित समुदाय से हैं इसलिए उन्हें हटाने से कहीं दलित मतदाता नाराज न हो जाएं इसलिए पार्टी ने दलित समुदाय के ही व्यक्ति को अध्यक्ष बनाया। देखना होगा कि अगर कांग्रेस-बीएसपी में गठबंधन होता है तो क्या यह रणनीति कामयाब होगी?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें