loader

कोरोना वैक्सीन पर मुक़दमों से बचाव क्यों चाहते हैं पूनावाला?

कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में कथित दुष्परिणाम के बाद जिस सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया पर केस किया गया था उस कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला सरकार से अब क़ानूनी मामलों से बचाव करने को कह रहे हैं। पूनावाला ने कहा है कि सरकार को वैक्सीन बनाने वालों को 'फालतू मुक़दमों' से बचाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि ऐसे मुक़दमों से कंपनियों का ध्यान भटकता है और आख़िरकार वैक्सीन बनाने वाली कंपनियाँ दिवालिया हो जाएँगी। यह बात वैक्सीन बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी के सीईओ तब कह रहे हैं जब उनकी कंपनी पर आरोप लगा है कि उनकी वैक्सीन से चेन्नई का एक वॉलिंटियर 'मानसिक तौर पर दिवालिया' हो गया है। 

ख़ास ख़बरें

वॉलिंटियर ने दावा किया है कि ट्रायल में वैक्सीन के इंजेक्शन के बाद उसे गंभीर न्यूरोलॉजिकल बीमारी हो गई और इसलिए उसने 5 करोड़ रुपये के मुआवजे की माँग की है। 

ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रेज़ेनेका की वैक्सीन के लिए क़रार करने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया है। कंपनी ने भारत में वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल आयोजित किया। इस ट्रायल में चेन्नई के 40 वर्षीय व्यक्ति भी शामिल हुए थे और उन्हें 1 अक्टूबर को चेन्नई के श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ़ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च में वैक्सीन लगाई गई थी।

उस 40 वर्षीय वॉलिंटियर ने 21 नवंबर को क़ानूनी नोटिस दिया था। इसके अनुसार, दस दिन बाद उन्हें 'गंभीर सिरदर्द', 'व्यवहार में आमूल परिवर्तन' और 'रोशनी और आवाज़ से दिक्कतों' का अनुभव होने लगा। नोटिस में दावा किया गया है कि इसके बाद वह न तो किसी को पहचान सकते थे और न ही किसी से बोल सकते थे।

वॉलिंटियर के नोटिस के अनुसार उन्हें बताया गया कि वह 'एक्यूट एन्सेफ़ैलोपैथी' से पीड़ित हैं। 26 अक्टूबर को उनको अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। नोटिस में दावा किया गया है कि 'टेस्ट वैक्सीन का ही वह दुष्प्रभाव था...'।

नोटिस में यह भी कहा गया है कि वॉलिंटियर को मुहैया कराई गई पार्टिसिपेंट इंफ़ोर्मेशन शीट के अुनसार, 'इंग्लैंड में 18 से 55 साल के 500 स्वस्थ वयस्क लोगों पर इसका ट्रायल किया गया और यह सुरक्षित है।' नोटिस में कहा गया है कि इसी आधार पर वॉलिंटियर ने विश्वास कर ट्रायल में हिस्सा लिया। 

adar poonawalla aks to indemnify vaccine makers from lawsuits - Satya Hindi

तब यह मामला आने के बाद सीरम इंस्टिट्यूट ने कहा था कि वह उस वॉलिंटियर के ख़िलाफ़ 100 करोड़ रुपये की मानहानि का दावा करेगा। कंपनी की ओर से 'एनडीटीवी' को दिए गए बयान में दावा किया गया था, 'यह दावा दुर्भावनापूर्ण है क्योंकि वॉलिंटियर को विशेष रूप से चिकित्सा टीम द्वारा सूचित किया गया था कि उन्हें जो जटिलताएँ हुईं उसका ट्रायल से कोई संबंध नहीं था। विशेष रूप से इसके बारे में जानने के बावजूद उन्होंने सार्वजनिक तौर पर बताने और कंपनी की प्रतिष्ठा को नुक़सान पहुँचाने की राह चुनी।'

adar poonawalla aks to indemnify vaccine makers from lawsuits - Satya Hindi
सीरम इंस्टिट्यूट के दौरे पर प्रधानमंत्री के साथ अदार पूनावाला। फ़ोटो साभार: ट्विटर/अदार पूनावाला

अब अदार पूनावाला ऐसे किसी मुक़दमों से सुरक्षा चाहते हैं। पूनावाला ने ग्लोबल टेक्नोलॉजी समिट 2020 में कहा, 'सरकार को निर्माताओं, विशेष रूप से वैक्सीन निर्माताओं को सभी तरह के मुक़दमों से सुरक्षा देने की ज़रूरत है। वास्तव में कोवाक्स और अन्य देशों ने पहले से ही इस बारे में बात करना शुरू कर दिया है। ऐसा हो रहा है कि फालतू दावे सामने आते हैं, और आप देखते हैं कि मीडिया में बात का बतंगड़ बन जाता है...। इसको दूर करने के लिए सरकार को दखल देने की ज़रूरत है...।'

पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन निर्माताओं को अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने की ज़रूरत है और 'फालतू मुक़दमे' उन्हें 'दिन भर विचलित कर सकते हैं'। उन्होंने कहा कि ऐसे मुकदमों से अंततः वैक्सीन बनाने वाले दिवालिया हो सकते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें