loader
आफताब पूनावाला

आरोपी आफताब के पुलिस वाहन पर तलवारों से हमला, हमलावर हिन्दू सेना से

श्रद्धा वालकर मर्डर केस के आरोपी आफताब पूनावाला के वाहन पर तलवारों से सोमवार शाम हमला किया गया। तलवारों से हमला करने वाले हिन्दू सेना जिन्दाबाद के नारे लगा रहे थे। इनमें से कुछ ने भगवा कपड़ा भी सिरों पर बांध रखा था। शुरुआती खबरों में कहा गया है कि पोलीग्राफ औऱ नार्को टेस्ट के बाद पुलिस का एक वाहन आफताब को लेकर जा रहा था तो उसी दौरान रास्ते में तलवारों से हमला किया गया। 

मौके पर मीडिया भी मौजूद था। टीवी चैनलों ने आरोपियों से फौरन इंटरव्यू लेना शुरू कर दिया। इस सिलसिले में टीवी पर दिखाए जा रहे फुटेज में हमलावर यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि जो भी हमारी बहन-बेटियों की तरफ आंख उठाएंगे, हम उसका यही हाल करेंगे। एक रिपोर्टर ने पूछा कि आप तलवारें कहां से लाए तो आरोपियों में किसी ने जवाब दिया कि वो गुरुद्वारे से तलवारे लेकर आए हैं। फिर किसी आरोपी ने गुड़गांव का नाम लिया तो किसी ने दिल्ली का गुरुद्वारा बताया। एक टीवी रिपोर्टर के सवाल पर हमलावरों ने कहा कि उनकी संख्या दस है। हम लोग पूरी तरह से संगठित हैं।

मौके पर मीडिया भी मौजूद था। टीवी चैनलों ने आरोपियों से फौरन इंटरव्यू लेना शुरू कर दिया। इस सिलसिले में टीवी पर दिखाए जा रहे फुटेज में हमलावर यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि जो भी हमारी बहन-बेटियों की तरफ आंख उठाएंगे, हम उसका यही हाल करेंगे। एक रिपोर्टर ने पूछा कि आप तलवारें कहां से लाए तो आरोपियों में किसी ने जवाब दिया कि वो गुरुद्वारे से तलवारे लेकर आए हैं। फिर किसी आरोपी ने गुड़गांव का नाम लिया तो किसी ने दिल्ली का गुरुद्वारा बताया। एक टीवी रिपोर्टर के सवाल पर हमलावरों ने कहा कि उनकी संख्या दस है। हम लोग पूरी तरह से संगठित हैं।

ताजा ख़बरें

आफताब के वाहन पर यह जानलेवा हमला ऐसे समय हुआ है जब आफताब को गुजरात चुनाव में मुद्दा बनाने की कोशिश की गई। गुजरात की चुनावी सभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था श्रद्धा के कातिल को सजा जरूर दिलवाएंगे। इसी तरह असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा था कि अगर देश में ताकतवर नेता नहीं होगा तो हर शहर में आफताब पैदा होगा और समाज की रक्षा नहीं हो पाएगी।

 

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पुलिस ने दो हमलावरों को हिरासत में लिया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि हमला रोहिणी में एफएसएल लैब से निकलते ही हुआ। हमलावरों ने चारों तरफ से पुलिस वाहन को घेर लिया और तलवारे मारने लगे। पुलिस का कहना है कि आफताब सुरक्षित है। उसे कुछ नहीं हुआ है। पुलिस के मुताबिक कुछ हमलावरों को भी इस दौरान चोटें आईं हैं, लेकिन उसके लिए वे खुद जिम्मेदार हैं।
बता दें कि आफताब पूनावाला को इसी महीने उसकी लिव इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की हत्या करने के आरोप में दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था। हालांकि हत्या मई 2022 में हुई थी। लेकिन जब मामला पुलिस की जानकारी में आय़ा तो उसने गहन जांच के बाद आफताब को गिरफ्तार किया। आफताब ने पुलिस को बताया था कि उसने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े कर उन्हें जंगल में फेंक दिया था। पुलिस ने बाद में कुछ टुकड़े बरामद भी किए। इस घटना में आफताब नाम और शव के 35 टुकड़े ने इसे हाईप्रोफाइल मर्डर बना दिया। हालांकि उसके बाद शवों को टुकड़े करने और इसी तरह हत्या करने के मामले वो सुर्खियां नहीं बटोर सके जो यह मामला बटोर रहा है। यहां तक की बीजेपी ने इसे गुजरात विधानसभा चुनाव में भी भुनाने की कोशिश की।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें