loader

अग्निपथः ऐलान पर ऐलान, पर युवकों को भरोसा नहीं, उनके तर्क हैं अलग

'अग्निपथ' भर्ती योजना के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी है। ऐसे स्थान भी हैं, जहाँ सशस्त्र बलों की नौकरी के इच्छुक लोगों ने नई भर्ती योजना के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया।

ऐसा ही एक शांतिपूर्ण प्रदर्शन हरियाणा के पानीपत में हुआ। यहां पर, प्रदर्शनकारियों और उन्हें समझाने आए एक सरकारी अधिकारी के बीच बातचीत भावनात्मक हो गई। इससे संबंधित वीडियो वायरल है।

वीडियो में एक युवा प्रदर्शनकारी एसडीएम कमल गिरधर से कह रहा है - अगर आपके बच्चे विरोध कर रहे थे तो आप क्या करेंगे। अधिकारी युवक को गले लगाता है और उसे समझाने की कोशिश करता है और जवाब देता है, तुम मेरे बेटे की तरह हो।

ताजा ख़बरें
अधिकारी ने प्रदर्शनकारियों को भरोसा दिया कि वो उनके मुद्दों को सरकार के सामने पेश करेंगे और उनसे अपना करियर बर्बाद नहीं करने का अनुरोध किया। अधिकारी ने उन लोगों से कहा - बेटा, मैं तुम्हारे पिता की उम्र का हूँ, तुम्हारा करियर बर्बाद हो सकता है। मैं आपके मुद्दों को सरकार तक ले जाऊंगा।

अधिकारी तब प्रदर्शनकारियों से अनुरोध करते हैं कि वे कानून अपने हाथ में न लें और प्रशासन को उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर न करें।

एक अन्य प्रदर्शनकारी भी नई योजना के बारे में अपनी चिंता व्यक्त करते हुए दिखाई दे रहा है। वो कह रहा है - मैं लगभग 9 वर्षों से सेना की परीक्षा की तैयारी कर रहा हूं, अब अगर मैं केवल 4 साल की सेवा करता हूं तो मुझे यकीन नहीं है कि मुझे 25 प्रतिशत वर्ग में रखा जाएगा या नहीं। मैंने 12 वीं तक पढ़ाई की है और मैं ग्रैजुएट नहीं हूं। अगर मैं 26 साल की उम्र में छोड़ देता हूं, तो मुझे इसे पूरा करने में 3 साल और लगेंगे, मुझे 30 साल की उम्र में नौकरी कैसे मिलेगी। 
देश से और खबरें

बहरहाल, सरकार ने कई रियायतों की घोषणा की है। वो पिछले तीन दिनों से लगातार घोषणाएं कर रही है। गृह मंत्रालय ने कहा कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) और असम राइफल्स में 10 प्रतिशत रिक्तियां आरक्षित होंगी और सीएपीएफ और असम राइफल्स में भर्ती के लिए 'अग्निवीर' को तीन साल की छूट दी जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें