loader
अलीगढ़ के पास जट्टारी में पुलिस चौकी को आंदोलनकारी युवकों ने फूंक दिया है

अग्निपथ: अलीगढ़ में पुलिस चौकी फूंकी, यमुना एक्सप्रेसवे खुला

अग्निपथ के खिलाफ युवकों का आंदोलन अभी तक 7 राज्यों में फैल चुका है। बिहार के बाद यूपी, तेलंगाना, हरियाणा, झारखंड, राजस्थान में इसका असर सबसे ज्यादा है। यूपी के बलिया, मथुरा और वाराणसी में हालात ज्यादा खराब हैं। अलीगढ़ में जट्टारी में पुलिस चौकी फूंक दी गई। अलीगढ़ में पलवल मार्ग पर यूपी रोडवेज की बस जला दी गई। सबसे ज्यादा असर उसी बेल्ट में दिख रहा है, जहां से सेना में युवकों की भर्तियां ज्यादा होती हैं। बहरहाल, यूपी पुलिस का दावा है कि यमुना एक्सप्रेसवे खुलवा दिया गया है।

इस आंदोलन में अभी तक तीन ट्रेनों की 28 बोगियां जलाई जा चुकी है। करीब दो दर्जन से ज्यादा बसों में तोड़फोड़ की गई या उन्हें आग के हवाले किया गया। बिहार के समस्तीपुर जिले में बिहार संपर्क क्रांति के 10 डिब्बों को आग के हवाले कर दिया गया। समस्तीपुर में विक्रमशिला एक्सप्रेस को नुकसान पहुंचाया गया। इसके 12 डिब्बे जलकर राख हो गए। यहीं पर लोहित एक्सप्रेस में आग लगा दी गई। करीब 6 डिब्बों को नुकसान हुआ है। बिहार में अधिकतर रेल लाइनों पर ट्रेनों का ऑपरेशन बाधित है।

ताजा ख़बरें

यूपी के बलिया में भी सुबह एक ट्रेन में आग लगा दी गई। यह ट्रेन पूरी तरह खाली थी। हावड़ा दिल्ली रेल मार्ग पूरी तरह बाधित है। यूपी के अलीगढ़ से गुजर रहे जिस यमुना एक्सप्रेसवे को सुबह युवकों ने बंद कर दिया था, उसके बारे में यूपी पुलिस ने दोपहर बाद दावा किया कि युवकों को समझाकर जाम खुलवा दिया गया है। अब यमुना एक्सप्रेसवे से जाया जा सकता है।

यूपी के छोटे-छोटे कस्बों में जिस तरह यह आंदोलन फैल रहा है, वो बहुत चिन्ता का विषय है। जिस तरह मथुरा में हरियाणा रोडवेज की बसों को निशाना बनाया गया, वो खतरनाक है। तमाम राज्यों की बसें इन कस्बों में फंसी हुई हैं। इसके अलावा प्राइवेट बसें भी फंसी हुई हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें