loader

अर्द्धसैनिक बलों की कैंटीन में 1 जून से सिर्फ़ स्वदेशी सामान मिलेंगे: अमित शाह

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 'आत्मनिर्भर भारत' की घोषणा करने के एक दिन बाद ही गृह मंत्रालय ने फ़ैसला किया है कि अर्द्धसैनिक बलों की कैंटीन में 1 जून से सिर्फ़ स्वदेशी सामान ही मिलेंगे। गृह मंत्री अमित शाह ने आज इसकी घोषणा की। 

प्रधानमंत्री द्वारा स्थानीय सामान उपयोग करने की कही गई बात पर ज़ोर देते हुए गृह मंत्री ने ट्वीट कर कहा, 'इसी दिशा में आज गृह मंत्रालय ने यह निर्णय लिया है कि सभी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPF) की कैंटीनों पर अब सिर्फ़ स्वदेशी उत्पादों की ही बिक्री होगी। 01 जून 2020 से देशभर की सभी CAPF कैंटीनों पर यह लागू होगा। इससे लगभग 10 लाख CAPF कर्मियों के 50 लाख परिजन स्वदेशी उपयोग करेंगे।'

इस ट्वीट के साथ ही उन्होंने अपील की है कि देशवासी देश में बने उत्पादों का अधिक से अधिक इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा, '...हर भारतीय यदि भारत में बने उत्पादों (स्वदेशी) का उपयोग करने का संकल्प ले तो पाँच वर्षों में देश का लोकतंत्र आत्मनिर्भर बन सकता है।'

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि एक दिन पहले ही यानी मंगलवार को देश के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘कोरोना संकट ने हमें लोकल सप्लाई चेन, लोकल मार्केट का महत्व समझाया है। हमें लोकल ने ही बचाया है। समय ने हमें सिखाया है कि लोकल को हमें अपने जीवन का मंत्र बनाना ही होगा। आज से हर भारतवासी को लोकल उत्पाद ख़रीदने हैं और उनका गर्व से प्रचार भी करना है।’ इस दौरान मोदी ने कहा कि लोगों ने उनकी खादी, हैंडलूम ख़रीदने की अपील को समर्थन दिया और इसे ब्रांड बना दिया।’

देश से और ख़बरें
प्रधानमंत्री ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा भी की है। उन्होंने कहा, ‘यह पैकेज हमारे लघु, मझोले उद्योगों के लिए है, यह पैकेज उस श्रमिक, किसान के लिए है, जो देशवासियों के लिए दिन-रात परिश्रम करता है। यह पैकेज उस वर्ग के लिए है जो दिन-रात मेहनत करता है और ईमानदारी से टैक्स देता है।’
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें