loader

'भारत का हाल बुरा क्योंकि उसने समय से पहले ही कोरोना को ख़त्म मान लिया था'

दुनिया के चोटी के संक्रामक रोग विशेषज्ञ और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के मुख्य स्वास्थ्य सलाहकार एंथनी फ़ॉची ने कहा है कि कोरोना के मामले में भारत की स्थिति इतनी ख़राब इसलिए है कि उसने यह ग़लत धारणा बना ली थी कि कोरोना ख़त्म हो गया और समय से पहले ही स्थिति सामान्य कर ली। 

फ़ॉची ने अमेरिकी सीनेट के शिक्षा, स्वास्थ्य, श्रम व पेंशन समिति के सामने हुई पेशी में यह कहा है। 

क्या कहा फ़ॉची ने?

एंथनी फ़ॉची ने कहा, 'भारत में स्थिति इतनी बुरी इसलिए है कि वहाँ एकदम शुरू में ही कोरोना की लहर आई और उसने उसी समय यह ग़लत धारणा बना ली थी कि कोरोना ख़त्म हो गया। उन्होंने समय से पहले ही सबकुछ सामान्य कर लिया और कोरोना को गया हुआ मान लिया, अब वहाँ एक बार और लहर आई हुई है और बहुत ही बुरा हाल है।'

ख़ास ख़बरें
डॉक्टर फ़ॉची अमेरिकी नेशनल एलर्जी एंड इन्फेक्शस डिज़ीज के निदेशक हैं, वह सीडीसी यानी सेंटर ऑफ़ डिजीज़ कंट्रोल के भी प्रमुख रह चुके हैं। उन्होंने कहा कि भारत में महामारी के इस तरह फैलने से अमेरिका को भी सबक लेनी चाहिए और अपने यहां एक मजबूत स्वास्थ्य सेवा व स्वास्थ्य आधारभूत सुविधा विकसित करनी चाहिए और तुरन्त व समय पर प्रतिक्रिया जताने की व्यवस्था भी होनी चाहिए। 
anthony fauchi :india prematurely declared corona over - Satya Hindi

क्या कहा सेनेटर ने?

उन्होंने कहा कि सबसे ज़रूरी बात यह है कि कभी भी स्थिति का ग़लत आकलन नहीं करना चाहिए। 

सीनेट की इस बैठक की अध्यक्षता सीनेटर पैटी थॉमस ने की। 

सीनेटर पैटी थॉमस ने भारत की स्थिति को 'हृदय विदारक' बताया और कहा कि भारत को देखने से हमें यह पता चलता है कि वायरस को समय पर काबू नहीं करने से क्या हो सकता है।

दूसरी ओर, स्विटज़रलैंड स्थित इंडीपेंडेंट पैनल फॉर पैंडेमिक प्रीपेयर्डनेस एंड रिस्पॉन्स (आईपीपीपीआर) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना की तबाही से बचा जा सकता था। पर एक के बाद एक ग़लत फ़ैसले लिए गए, संस्थाएं लोगों की सुरक्षा में नाकाम रहीं, विज्ञान को नकारने वाले नेताओं ने स्वास्थ्य उपायों में लोगों का भरोसा कम किया और बड़ी तादाद में लोग मारे गए। 

इस रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया है कि 'विज्ञान-विरोधी नेतागण', कोरोना से लड़ने के संकल्प की कमी और सारी चेतावनियों की अनदेखी के 'घातक कॉकटेल' के कारण ही यह भयानक तबाही आयी है।

इस महामारी के बीच नेताओं का क्या रवैया रहा है, देखें वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी का यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें