loader
बठिंडा सैन्य स्टेशन

बठिंडा आर्मी स्टेशन में 5वें जवान की मौत कैसे, सेना ने कहा- हादसा

बठिंडा मिलिट्री स्टेशन के अंदर 4 गोली लगने के बाद 'आकस्मिक गोलीबारी' में एक और जवान शहीद हो गया। बुधवार-गुरुवार देर रात बठिंडा मिलिट्री स्टेशन के अंदर गलती से चली गोली से इस जवान की मौत हुई है। बठिंडा में अभी कल बुधवार को ही फायरिंग में चार जवानों की मौत हो गई। उसके बाद पांचवें जवान के मारे जाने की खबर सामने आई है। कल की घटना के आरोपी अभी तक पकड़े नहीं गए हैं। सेना ज्यादा जानकारी नहीं दे रही है। पांचवें जवान की मौत भी रहस्यों के घेरे में आ गई है। मरने वाले जवान का नाम लघुराज शंकर बताया गया है।
द ट्रिब्यून के मुताबिक बठिंडा कैंट थाने को एक शिकायत मिली है। जिसमें कहा गया कि यह गलती से हुई फायरिंग का मामला लग रहा है। हालांकि पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। सेना का कहना है कि पांचवें जवान की मौत का कल की घटना से कोई संबंध नहीं है। इस जवान की आयु भी 24-25 साल के आसपास ती।

सेना का बयान

एक सैन्य अधिकारी ने एनडीटीवी पर कहा - कल मरने वाला जवान सेना की अलग यूनिट से था। इस घटना का अन्य चार जवानों के मारे जाने से कोई लेना-देना नहीं है। गोली लगी है, पोस्टमार्टम कराया जाएगा। इस जवान की मौत गलती से हुई फायरिंग से हुई है। हम मामले की जांच कर रहे हैं, हमारे जांच अधिकारी मौके पर पहुंच रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि जिस पांचवें जवान की मौत हुई है वो छुट्टी से 11 अप्रैल को लौटा था। बठिंडा पुलिस के सूत्रों का कहना है कि यह खुदकुशी का मामला लग रहा है।
ताजा ख़बरें
कल की घटना में सेना और पुलिस राइफल और कुल्हाड़ी से लैस चेहरे ढंके दो लोगों की तलाश कर रही है। बुधवार सुबह करीब 4:30 बजे आर्टिलरी यूनिट में ऑफिसर्स मेस के पास बैरक में फायरिंग हुई। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा- अब तक हमने जो जानकारी जुटाई है, उसके अनुसार यह स्पष्ट है कि यह आतंकवादी कृत्य नहीं है। 
शुरुआत में पुलिस ने अनुमान लगाया था कि यह "फ्रेट्रिकाइड" की घटना है। हालांकि, अधिकारियों ने बाद में कहा कि अभी तक इस घटना पर कोई स्पष्टता नहीं है। पता चला है कि सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने इस मामले पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को जानकारी दी।

बठिंडा सेना स्टेशन के अंदर की घटना की जो जानकारी सेना या पुलिस के जरिए सार्वजनिक की गई है, उससे सारे मामले में रहस्य गहरा उठा है। बठिंडा सेना का महत्वपूर्ण स्टेशन है। वहां पर जबरदस्त सुरक्षा प्रबंध हैं लेकिन अभी तक कल की घटना के आरोपियों का नहीं पकड़ा जाना तमाम सवाल खड़े कर रहा है। उसी दौरान पांचवें जवान की मौत की सूचना आ जाती है और उसे हादसा बता दिया जाता है। बेशक, सेना सब कुछ सही बता रही है लेकिन आरोपियों का नहीं पकड़ा जाना, घटना की वजह का सामने नहीं आना, सारे मामले को रहस्यमय बना रहा है।
सेना के सूत्रों ने कहा कि कोर्ट ऑफ इंक्वायरी (सीओआई) के सहयोग से राज्य पुलिस द्वारा चल रही जांच के अलावा पूरी घटना की जांच होगी।आशंका जताई जा रही है कि दो दिन पहले 28 राउंड के साथ लापता बताई जा रही इंसास राइफल का इस्तेमाल फायरिंग की घटना में किया गया था। सेना ने बुधवार को कहा कि इंसास राइफल बरामद कर ली गई है।
एक जवान ने दो अज्ञात लोगों को सफेद कुर्ता-पायजामा पहने, जिनके चेहरे और सिर ढके हुए देखा, जो फायरिंग के बाद बैरक से बाहर आ रहे थे। पुलिस एफआईआर के मुताबिक, उनमें से एक के पास इंसास राइफल और दूसरे के पास कुल्हाड़ी थी। पुलिस की एफआईआर के अनुसार, संदिग्ध हमलावर जवान को देखते ही बैरक के पास एक जंगली इलाके की ओर भाग गए। 
देश से और खबरें

इसके बाद, सेना के दो अधिकारी बैरक के अंदर गए और सागर बन्ने (25) और योगेश कुमार जे (24) को खून से लथपथ पाया। दूसरे कमरे में संतोष एम नागराल (25) और कमलेश आर (24) के शव मिले। शवों पर गोलियों के निशान थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें