loader

ब्रिटेन में भारत के टीके स्वीकृत, कोरोना सर्टिफ़िकेट नहीं, करना होगा क्वारंटीन

भारत के लोगों को ब्रिटेन जाने पर अभी भी क्वारन्टीन से गुजरना होगा, यानी वहाँ पहुँचने के बाद खुद को क्वारन्टीन में रखने के बाद ही वे सामान्य जीवन शुरू कर सकेंगे। 

इसकी वजह कोरोना टीका नहीं है, क्योंकि ब्रिटेन ने यात्रा नीति में बदलाव करते हुए कोविशील्ड को स्वीकृत कोरोना टीकों की सूची में जोड़ लिया है। 

लेकिन कोरोना सर्टिफिकेट को लेकर समस्या बनी हुई है और इस कारण भारत से जाने वालों को क्वारन्टीन से छूट नहीं मिली है। 

ख़ास ख़बरें

किस सूची में है भारत?

भारत अभी भी उन देशों की सूची में नहीं है, जिनके सार्वजनिक स्वास्थ्य निकायों को मंजूरी दी गई है। 

ब्रिटेन के दिशा निर्देश में कहा गया है, "चार स्वीकृत टीकों के फ़ॉर्मूलेशन्स एस्ट्राज़ेनेका कोवीशिल्ड, एस्ट्राज़ेनेका वैक्सज़ेवरिया और मॉडर्न टकेडा स्वीकृत टीके हैं।"

ब्रिटेन की आधिकारिक साइट पर कहा गया है कि

जिन लोगों ने 4 अक्टूबर सुबह चार बजे से स्वीकृत सार्वजनिक स्वास्थ्य निकायों से टीके लगवाए हैं, उन्हें पूर्ण रूप से टीका लगाया हुआ माना जाएगा।

पर इस सूची में भारत का नाम नहीं है। भारत का नाम एंबर सूची में है। ब्रिटेन के लोगों ने कहा है कि 'समस्या कोरोना वैक्सीन में नहीं है, समस्या है कोरोना वैक्सीन सर्टिफ़िकेट में।' 

भारत स्थित ब्रिटेन के उच्चायोग ने एक बयान में कहा है, "ब्रिटिश सरकार वैक्सीन सर्टिफ़िकेट को और बड़ा करने के मुद्दे पर भारत से बात कर रही है।"

दूसरी ओर, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आर. एस. शर्मा ने सर्टिफिकेट में किसी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया है। उन्होंने 'एनडीटीवी' से कहा, कोविड सर्टिफ़िकेट के साथ कोई समस्या नहीं है। 

britain accepts covaxin, not corona vaccine certificate  - Satya Hindi
उन्होंने कहा, "पूरी सर्टिफिकेशन प्रणाली विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा निर्देशों के अनुरूप है। हम अंतरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन से भी बात कर रहे हैं। यू.के. उच्चायोग के अधिकारी आए थे, वे कोविन प्रणाली के तकनीकी पक्ष को समझना चाहते हैं। इस पर बात चल रही है।"  
इसके पहले विदेश सचिव हर्षवर्धन शृंगला ने कहा था, "भारतीय नागरिकों की ब्रिटिश यात्रा के लिए कोवीशील्ड को मान्यता न देना भेदभावपूर्ण नीति है।"
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें