loader

भ्रष्टाचार के आरोप में बुलेट ट्रेन परियोजना के एमडी पर एक्शन 

रेलवे मंत्रालय ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के प्रबंध निदेशक सतीश अग्निहोत्री को तत्काल प्रभाव से उनके पद से हटा दिया है। अग्निहोत्री को पिछले साल नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड का प्रबंध निदेशक बनाया गया था। अग्निहोत्री पर यह कार्रवाई अपने पद का दुरुपयोग करने, भ्रष्टाचार के आरोपों और बुलेट ट्रेन के लिए मिले फंड को किसी और काम में इस्तेमाल करने के चलते की गई है। 

अग्निहोत्री पर एक निजी कंपनी के साथ डील में भ्रष्टाचार करने के भी आरोप हैं।

ताज़ा ख़बरें

3 जून को एक लोकपाल अदालत ने सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह सतीश अग्निहोत्री के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करे। अग्निहोत्री पर सैकड़ों करोड़ रुपए के सरकारी धन की हेराफेरी और गबन करने का भी आरोप है। 

लोकपाल की अदालत में सुनवाई के बाद उन्होंने इस तरह के सभी आरोपों को खारिज कर दिया था और शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। लोकपाल की अदालत ने सीबीआई से कहा था कि वह 6 महीने के भीतर अपनी जांच रिपोर्ट दे। 

सतीश अग्निहोत्री 1982 बैच के इंडियन रेलवे सर्विस ऑफ इंजीनियर्स के अफसर हैं और वह 2018 में नौकरी से रिटायर हुए थे। उन्हें जुलाई 2021 में प्रबंध निदेशक के पद पर नियुक्त किया गया था लेकिन सितंबर 2021 में ही उनके और रेलवे के कुछ बड़े अधिकारियों के खिलाफ लोकपाल को शिकायत मिली थी। 

अग्निहोत्री के खिलाफ शिकायत थी कि उन्होंने नवयुग इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड को मोटी रकम वाले ठेके दिए थे।

देश से और खबरें
अग्निहोत्री के खिलाफ एक डील में निजी कंपनी से मुनाफा लेने की शिकायत तब की है जब वह रेल विकास निगम लिमिटेड में चेयरमैन थे। वह इस पद पर जनवरी 2010 से अगस्त 2018 तक रहे थे। अग्निहोत्री और रेलवे के कुछ सीनियर अफसरों पर आरोप है कि रेल विकास निगम लिमिटेड में रहते हुए उन्होंने अपने पद का दुरुपयोग किया और रेल मंत्रालय से मिले 1100 करोड़ रुपए के फंड को एक निजी कंपनी कृष्णापट्टनम रेल कंपनी लिमिटेड को डायवर्ट कर दिया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें