loader

18+ उम्र वाले अब सरकारी टीकाकरण केंद्र पर रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे

बिना इंटरनेट और स्मार्ट फ़ोन की सुविधा वाले 18-44 साल की उम्र के लोग अब सीधे टीकाकरण केंद्र पर रजिस्ट्रेशन कराकर टीके लगवा सकते हैं। इंटरनेट, मोबाइल, ऐप से बिल्कुल अनजान लोग इस फ़ैसले से लाभ ले सकेंगे। अभी, ख़ासकर, गाँवों में टीके लगाने में लोगों को काफ़ी दिक्कतें आ रही थीं वह भी सिर्फ़ टीके से पहले रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की वजह से। केंद्र सरकार ने आज इसके लिए अधिसूचना जारी की है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि  यदि पहले से रजिस्टर्ड लाभार्थियों को टीके लगाने के बाद टीके बच जाएँ तो 18-44 आयु वर्ग के कुछ लोगों के लिए केंद्र पर ही रजिस्ट्रेशन और टीकाकरण की सुविधा होगी। ये सुविधाएँ सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर ही उपलब्ध होंगी। 

केंद्र सरकार ने केंद्र पर ही को-विन साइट पर रजिस्ट्रेशन करने का फ़ैसला राज्य या केंद्रशासित प्रदेशों पर छोड़ा है। यानी स्थानीय हालात के आधार पर वे यह फ़ैसला ले सकते हैं। इसने यह भी साफ़ कहा है कि यह सुविधा निजी अस्पतालों के लिए नहीं होगी।

ताज़ा ख़बरें

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि केंद्रों पर लोगों की भीड़ न उमड़ पड़े, इसके लिए भी काफी सतर्कता बरती जानी चाहिए। केंद्र की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चूँकि सिर्फ़ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन वालों को टीका लगाने के प्रावधान से कुछ डोज की बर्बादी अब भी हो रही होगी, इसलिए वहाँ कुछ ऑनसाइट रजिस्ट्रेशन करवाना बेहतर रहेगा।

तो सवाल है कि यह सुविधा अब क्यों की गई, यह पहले क्यों नहीं की जा सकी? शुरू से ही यह शिकायतें आ रही थीं कि गाँवों में अधिकतर लोग टीकाकरण के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं करा पा रहे थे। केंद्र सरकार की ओर से इस सवाल का भी जवाब दिया गया है। केंद्र ने कहा है कि उसने टीकाकरण केंद्रों पर भीड़भाड़ से बचने के लिए 18-44 आयु वर्ग के लिए इस सुविधा में देरी की है।

बता दें कि जिस तरह की सुविधा अभी 18-45 आयुवर्ग के लोगों के लिए की गई है वैसी सुविधा 45 से ऊपर के उम्र के लोगों को पहले से ही मिली हुई है। 

सरकार की यह अधिसूचना तब आई है जब टीकाकरण अभियान नीति के लिए केंद्र सरकार जबरदस्त आलोचनाओं का सामना कर रही है। अब यह ख़ासकर आलोचना इसलिए बढ़ गई है कि कई राज्यों को टीके की कमी की वजह से उन्हें अपने केंद्र बंद करने पड़े हैं।

टीके खरीद में भी खामियाँ उजागर हो रही हैं। केंद्र ने टीके की ख़रीद की ज़िम्मेदारी भी राज्यों पर डाल दी है, लेकिन वे टीके खरीद पाने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं। 

central govt allows walk-in registration for 18-44 age group - Satya Hindi

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि जब राज्य सरकार ने फाइजर और मॉडर्ना से संपर्क किया तो इन कंपनियों ने साफ़ तौर पर कह दिया कि वे केंद्र सरकार से सौदा करेंगे, राज्यों से नहीं। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल का यह बयान तब आया है- जब दो दिन पहले ही वैक्सीन की कमी के कारण 18-44 वर्ष के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान को रोकना पड़ा है। दिल्ली सहित देश के क़रीब-क़रीब सभी राज्य टीके की कमी का सामना कर रहे हैं। 

देश से और ख़बरें

केजरीवाल ने आज कहा, 'हमने वैक्सीन के लिए फाइजर और मॉडर्ना से बात की है और दोनों ने सीधे हमें टीके बेचने से मना कर दिया है। उन्होंने कहा है कि वे केंद्र सरकार से सौदा करेंगे। हम केंद्र से टीके आयात करने और राज्यों को वितरित करने की अपील करते हैं।'

एक दिन पहले ही पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी यही बात कही थी। उन्होंने कहा था जब मॉडर्ना कंपनी से संपर्क किया गया तो उसने सीधे राज्य को बेचने से इनकार कर दिया। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने भी आज कहा कि वैक्सीन निर्माता मॉडर्ना ने सीधे पंजाब सरकार को वैक्सीन भेजने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को पहल करनी चाहिए और टीकों की खरीद में राज्य सरकार का समर्थन करना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें