loader

मज़दूरों से रेल भाड़ा वसूलने पर विवाद बढ़ा, केंद्र ने कहा, राज्यों से किराया लेने को नहीं कहा

घर लौटने वाले प्रवासी मज़दूरों से रेल भाड़ा वसूलने के मुद्दे पर बना विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसके उलट यह और बढ़ता ही जा रहा है। केंद्र सरकार ने इस पर सफ़ाई देते हुए कहा है कि उसने राज्य सरकारों से कभी नहीं कहा कि वह इन मज़दूरों से भाड़ा वसूले। केंद्र ने यह भी कहा है कि रेलवे भाड़ा में 85 प्रतिशत की छूट ख़ुद दे रहा है, सिर्फ 15 प्रतिशत राज्य सरकारों को देना है। 

क्या कहना है केंद्र का?

यह दिलचस्प है कि इस मामले पर सफ़ाई रेल या गृह मंत्रालय ने नहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी है।स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा,

'ख़ास आग्रह मिलने पर हमने विशेष ट्रेनें चलाने की छूट दी। हम इस पर पड़ने वाला खर्च बाँट रहे हैं, केंद्र 85 प्रतिशत और राज्य सरकार 15 प्रतिशत दें। हमने राज्य सरकारों से कभी नहीं कहा कि वे इन फँसे हुए मज़दूरों से भाड़ा वसूले।'


लव अग्रवाल, संयुक्त सचिव, स्वास्थ्य मंत्रालय

क्या कहता है रेलवे का दिशा निर्देश?

पर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी. के. यादव ने यह साफ़ शब्दों में माना है कि लौट रहे मज़दूरों को मुफ़्त यात्रा की सुविधा नहीं दी जाएगी। उन्होंने इसका कारण भी बताया है। 
रेलवे ने अपने दिशा निर्देश में साफ़ कहा है कि वह रेल टिकट राज्यों को देगा और राज्य मुसाफ़िरों से पैसे वसूल कर उसे दे देगा।

बिहार ने पैसे वसूले

मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव के ज़ोरदार हमले से तिलमिलाई बिहार सरकार ने कहा है कि बाहर से लौटे मज़दूरों को रेल भाड़ा वापस कर दिया जाएगा। यानी, यह साफ़ है कि बिहार सरकार ने मज़दूरों से भाड़ा वसूल कर रेलवे को दिया है, तभी तो वह मज़दूरों को वह पैसा वापस करेगी।
इसके पहले तेजस्वी यादव ने रविवार को बिहार सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि दूसरे राज्यों में फँसे बिहारी मज़दूरों के लौटने का किराया उनकी पार्टी चुकाएगी। उन्होंने बिहार सरकार को संवेदनहीन क़रार देते हुए कहा था कि इन मज़दूरों के पास पहले से ही काम नहीं, पैसे नहीं हैं, कई के पास खाने-पीने का इंतजाम तक नहीं है और सरकार उनसे वापस आने के पैसे माँग रही है। इन मज़दूरों के लिए यह भाड़ा चुकाना मुमकिन नहीं है। 
इस समूचे विवाद की शुरुआत उस समय हुई जब कांग्रेस नेता सोेनिया गाँधी ने कहा कि केंद्र सरकार इन मज़दूरों से रेल भाड़ा वसूल रही है। उन्होंने कहा कि स्थानीय कांग्रेस ईकाइयाँ इन मज़दूरों का रेल भाड़ा देगी। राहुल गाँधी ने कहा कि रेलवे पीएम केअर्स फंड में 150 करोड़ रुपए का दान दे सकती है तोे इन मज़दूरों को मुफ़्त उनके गृह राज्य क्यों नहीं पहुँचा सकती। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें