loader

इंदिरा गांधी को अयोग्य करने वाला फ़ैसला बहुत साहसिक था: सीजेआई

देश के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को अयोग्य घोषित करने के इलाहाबाद हाई कोर्ट के फ़ैसले को बहुत साहसिक निर्णय बताया है। तब उस फ़ैसले ने देश को झकझोर कर दिया था। सीजेआई रमना शनिवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के नए भवन परिसर के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे। उस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी शामिल हुए थे। 

कार्यक्रम के दौरान इलाहाबाद हाई कोर्ट के ऐतिहासिक फ़ैसलों का ज़िक्र करते हुए सीजेआई रमना ने कहा कि कहा, 'इलाहाबाद उच्च न्यायालय का 150 साल से अधिक पुराना इतिहास है। 1975 में वह न्यायमूर्ति जगमोहन लाल सिन्हा थे जिन्होंने ऐसा आदेश पारित किया कि इंदिरा गांधी अयोग्य करार दी गईं। उस फ़ैसले ने देश को हिलाकर रख दिया।' उन्होंने आगे कहा कि वह फ़ैसला बहुत साहस भरा निर्णय था। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कहा जा सकता है कि इसी फ़ैसले के कारण आपातकाल की घोषणा की गई।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि तब उस फ़ैसले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने माना था कि इंदिरा गांधी चुनावी गड़बड़ियों की दोषी थीं और उन्हें छह साल के लिए सार्वजनिक पद पर रहने से अयोग्य घोषित कर दिया गया था। बाद में देश में दो साल के लिए आपातकाल लगा दिया गया था।

इंदिरा गांधी ने उत्तर प्रदेश में रायबरेली सीट से 1971 का लोकसभा चुनाव अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी राज नारायण को हराकर जीता था। लेकिन इंदिरा की जीत को यह कहते हुए चुनौती दी गई थी कि उनके चुनाव एजेंट यशपाल कपूर एक सरकारी अधिकारी थे और उन्होंने निजी चुनाव संबंधी कार्यों के लिए सरकारी अधिकारियों का इस्तेमाल किया था। 

हालाँकि इसके साथ ही सीजेआई ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में लंबित आपराधिक मामलों को लेकर चिंता जताई। उन्होंने लंबित मामले के निपटारे के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय और बार के सदस्यों को इस संदर्भ में मिलकर काम करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि नये कॉम्पलेक्स के निर्माण से इलाहाबाद बार में फिर से ऊर्जा का संचार होगा।

सीजेआई रमना ने देश की अदालतों के आधारभूत ढांचे पर भी चिंता जताई और कहा कि भारत में अब भी अदालतें जीर्ण-शीर्ण भवनों और ख़राब बुनियादी ढांचे के साथ काम कर रही हैं।

मुख्य न्यायाधीश रमना ने क़ानून मंत्री रिजिजू की भी तारीफ़ की। उन्होंने न्याय तक पहुँच बढ़ाने के लिए न्यायिक बुनियादी ढांचे को मज़बूत करने की दिशा में रिजिजू के दृष्टिकोण की सराहना की। उन्होंने कहा, 'मैंने सोचा था कि वह इलीट (कुलीन) पृष्ठभूमि से हैं। लेकिन आज सुबह मुझे उनसे पता चला कि वह भी ग्रामीण पृष्ठभूमि से हैं। वह आम लोगों की कठिनाइयों को समझते हैं।'

देश से और ख़बरें
बता दें कि हाल ही में सीजेआई रमना के नेतृत्व वाले सुप्रीम कोर्ट कॉलिजियम ने एक साथ 9 जजों की सिफारिश की थी जिसे सरकार ने मंजूरी दे दी है। बीते कुछ सालों में ऐसा पहली बार हुआ है जब कॉलिजियम की ओर से भेजे गए सभी नामों को केंद्र सरकार ने मंजूर कर लिया। इस बीच कॉलिजियम ने उच्च न्यायालयों में पदोन्नति के लिए 10 महिलाओं सहित 68 नामों की सिफारिश की है। यह पहला मौक़ा है जब कॉलिजियम ने एक साथ इतने नामों को मंजूरी दी है। अब सरकार के पास इन सिफारिशों को भेजा गया है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें