loader

ड्रग्स केस: भारती सिंह और उनके पति को मिली जमानत

ड्रग्स मामले में मशहूर स्टैंड-अप कॉमेडियन भारती सिंह और उनके पति हर्ष लिम्बाचिया को सोमवार को जमानत मिल गई है। रविवार को दोनों को मुंबई की एक अदालत ने 4 दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इसके तुरंत बाद दोनों ने अपनी जमानत के लिए अर्जी लगा दी थी। 

एनसीबी यानी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने शनिवार सुबह भारती के घर और प्रोडक्शन हाउस से ड्रग्स बरामद करने के बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया था। इसके बाद उनके पति की भी गिरफ़्तारी की गई थी। 

रिपोर्ट के अनुसार भारती के घर और प्रोडक्शन हाउस से कुल मिलाकर 86.5 ग्राम ड्रग्स बरामद किए जाने की बात कही गई है। 

गिरफ़्तारी से पहले भारती सिंह और उनके पति हर्ष लिम्बाचिया से एनसीबी ने लंबी पूछताछ की थी। रिपोर्टों के अनुसार ड्रग्स पैडलर से पूछताछ में इन दोनों के नाम आने के बाद एनसीबी ने यह कार्रवाई की है। 
ख़ास ख़बरें
भारती सिंह के ख़िलाफ़ कार्रवाई की ख़बरें शनिवार सुबह से ही चल रही थीं। मीडिया कवरेज में दिखा कि अंधेरी में एक अपार्टमेंट परिसर से भारती सिंह को एक लाल मर्सिडीज में ले जाया जा रहा था, जबकि लिम्बाचिया को एक सफेद एनसीबी वैन में ले जाया गया था। एनसीबी के कार्यालय में पहुँचने पर भारती ने कहा कि उन्हें सिर्फ़ कुछ पूछताछ के लिए बुलाया गया है। तब 'एएनआई' की रिपोर्ट में कहा गया था कि भारती और उनके पति को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया। 

एनसीबी की यह कार्रवाई उस मामले में आई है जिसमें यह एजेंसी सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग्स ऐंगल की पड़ताल शुरू की थी। इसी मामले में रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती का नाम सामने आया था। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 8 सितंबर को रिया और शौविक को गिरफ्तार किया था। इनके अलावा सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को भी गिरफ्तार किया गया था। अक्टूबर महीने में रिया को बॉम्बे हाई कोर्ट से ज़मानत मिल पाई थी। 

comedian bharti singh got bail in drugs case - Satya Hindi

हालाँकि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने अपनी जाँच जारी रखी। इस मामले में कई लोगों से पूछताछ की गई। ड्रग्स पैडलर से पूछताछ के बाद कई लोगों के नाम सामने आये। 

ड्रग्स केस में 20 नवंबर को अर्जुन रामपाल एनसीबी के ऑफिस पहुँचे थे, जहाँ उनसे कई घंटों तक पूछताछ हुई थी। अर्जुन से पहले उनकी लिव इन पार्टनर गैब्रिएला डेमेट्रिएड्स से दो दिन पूछताछ की गई थी। रामपाल के दोस्त पॉल बार्टेल की भी गिरफ्तारी हुई थी। 

बता दें कि एनसीबी ड्रग्स मामले में कार्रवाई को लेकर विवादों में भी रही है। रिया की गिरफ़्तारी और उनकी ज़मानत का विरोध करने के मामले में उसके कई फ़ैसलों की आलोचना भी की जाती रही थी। हाल में एक मामला आया था जिसमें एजेंसी पर आरोप लगा था कि वह कई लोगों पर दबाव डाल रही है कि वे दूसरे अभिनेताओं का नाम ले। 
वीडियो में देखिए, रिया के ख़िलाफ़ कार्रवाई क्या साज़िश के तहत की गई?

एनसीबी पर आरोप

एनसीबी पर करण जौहर की कंपनी धर्मा एंटरटेनमेंट के पूर्व एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद के उत्पीड़न का आरोप लग चुका है। क्षितिज के वकील सतीश मानशिंदे ने आरोप लगाया था कि उनके मुवक्किल पर ड्रग्स मामले में फ़िल्म निर्माता करण जौहर का नाम लेने को लेकर दबाव डाला गया। 

प्रसाद की ओर से अदालत को बताया गया था कि एनसीबी के अधिकारियों ने उन पर फ़िल्मी दुनिया के सितारे रणबीर कपूर, अर्जुन रामपाल और डिनो मोरिया को झूठा फंसाने के लिए दबाव डाला। हालाँकि एनसीबी ने इन आरोपों को नकारते हुए कहा था कि वह बेहद ही प्रोफ़ेशनल तरीक़े से जाँच कर रही है।

क्षितिज ने अदालत को बताया था कि कई बार इससे इनकार करने के बाद भी कि वह इन फ़िल्म कलाकारों को नहीं जानते और उसे ड्रग्स से जुड़े आरोपों को लेकर भी कोई जानकारी नहीं है, उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। क्षितिज ने कहा था कि एनसीबी की ओर से उनसे फिर से झूठे बयानों पर दस्तख़त करने को कहा गया। 

इन आरोपों पर एनसीबी का कहना था कि क्षितिज जाँच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और बेहद अकड़ू स्वभाव के और अहंकारी हैं। जाँच एजेंसी का कहना था कि उन्होंने अपने ही दिए बयानों पर दस्तख़त करने से इनकार कर दिया और वह दस्तख़त करने के बदले उन पर लगे एनडीपीएस एक्ट के सेक्शन 27 ए को हटाने के लिए सौदेबाज़ी कर रहे थे। एनसीबी ने दावा किया था कि प्रसाद ड्रग्स खरीदने और इसे बांटने की साज़िश में शामिल थे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें