loader

सरकार ने माना : बढ़ रही है महामारी, आठ राज्यों में तेज़ी से फैल रहा है वायरस

केंद्र सरकार ने यह मान लिया है कि कोरोना महामारी अभी ख़त्म नहीं हुई है, बल्कि यह तेज़ी से बढ़ रही है। 

कोरोना टास्क फ़ोर्स के प्रमुख वी. के. पाल ने मंगलवार को कहा कि 44 ज़िलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट बहुत तेज़ी से बढ़ रही है और कोरोना की दूसरी लहर अभी ख़त्म नहीं हुई है। 

उन्होंने कहा, "कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट बड़ी समस्या बना हुआ है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर चल ही रही है।" 

ख़ास ख़बरें
पाल ने आर फ़ैक्टर यानी वायरस की प्रजनन दर पर चिंता जताते हुए कहा कि आठ राज्यों में आर फ़ैक्टर बहुत ऊंची है। उन्होंने कहा,

आर फ़ैक्टर 0.6 या इससे कम होना चाहिए, पर यह एक से ऊपर है और इससे साफ है कि वायरस तेज़ी से फैल रहा है।


वी. के. पॉल, प्रमुख, कोरोना टास्त फ़ोर्स

आर फ़ैक्टर एक से ऊपर

उन्होंने कहा कि जिन राज्यों में आर फ़ैक्टर एक से ऊपर है, वे हैं- हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, लक्षद्वीप, तमिलनाडु, कर्नाटक, पुदुचेरी और केरल। 

इसके अलावा पश्चिम बंगाल, नागालैंड, हरियाणा, गोवा, दिल्ली और झारखंड में आर फैक्टर एक है। सिर्फ आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र में ही आर फ़ैक्टर कम हो रहा है। 

corona surge due to high positivity rate and R Factor of delta varient - Satya Hindi

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि आर फ़ैक्टर के एक से ऊपर होने का मतलब यह है कि वायरस तेजी से फैल रहा है और इस पर काबू पाने की ज़रूरत है। 

उन्होंने कहा कि अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और भारत में औसत आर फैक्टर 1.2 है।

पॉजिटिविटी रेट

इसके दो दिन पहले ही यह ख़बर आई थी कि 10 राज्यों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ज़्यादा है, यानी जितने लोगों की कोरोना जाँच कराई गई है, उनमें से 10 प्रतिशत लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया है। 

 केंद्र सरकार ने इन राज्यों को सख़्त कदम उठाने की सलाह दी है और कहा है कि 45 से 60 और 60 से ऊपर की उम्र के ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को जल्दी से जल्दी कोरोना टीका दे। जिन राज्यों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ज़्यादा पाई गई है, वे हैं, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, असम, मिज़ोरम, मेघालय और मणिपुर। 

corona surge due to high positivity rate and R Factor of delta varient - Satya Hindi

जिन राज्यों में 10 प्रतिशत से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट है, वहाँ 80% से ज्यादा सक्रिय मामले होम आइसोलेशन में हैं। 

 इन मामलों पर प्रभावी ढंग से और सख्ती से निगरानी रखने की ज़रूरत है जिससे वे आपस में मिल कर अपने पड़ोस, समुदाय, गाँव, मोहल्ला, वार्ड आदि में न घूमें और संक्रमण न फैलाएं।

बता दें कि केरल में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने के बाद अब कर्नाटक में भी संक्रमण के मामले काफ़ी तेज़ी से बढ़े हैं।

राज्य में एक दिन में कोरोना पॉजिटिव केसों में 34 फ़ीसदी का उछाल आया है। यहाँ बुधवार को जहाँ 1531 मामले आए थे वहीं गुरुवार को 2052 मामले आए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें