loader

मौसम बदलने से पायलट भटका... सीडीएस हेलीकॉप्टर हादसा हुआ: कोर्ट ऑफ इंक्वायरी

सीडीएस जनरल बिपिन रावत हेलीकॉप्टर दुर्घटना में कोर्ट ऑफ़ इंक्वायरी की रिपोर्ट आ गई है। इसमें कहा गया है कि मौसम में एक अप्रत्याशित परिवर्तन के कारण पायलट का ध्यान भटक गया था और इस कारण विमान शायद सतह से टकरा गया था। 8 दिसंबर 2021 को हुए इस हादसे में भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत का निधन हो गया था। 

कोर्ट ऑफ़ इंक्वायरी तीनों सेनाओं की है। यह उस विमान Mi-17 V5 के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारणों की जाँच कर रही है। कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वाइस रिकॉर्डर की पड़ताल की है और शुरुआती जाँच में पाया है कि न तो कोई मशीनी गड़बड़ी थी और न ही किसी की लापरवाही।

ताज़ा ख़बरें

भारतीय वायु सेना ने शुक्रवार को कहा, 'कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने दुर्घटना के कारण के रूप में मशीनी गड़बड़ी, तोड़फोड़ या लापरवाही को खारिज कर दिया है। दुर्घटना घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित परिवर्तन के कारण विमान के बादलों में घुसने की वजह से हुई थी।' जाँच रिपोर्ट में कहा गया है कि पायलट के क्षणिक भटकाव के परिणामस्वरूप कंट्रोल्ड फ्लाइट इनटू टेरेन (सीएफआईटी) के रूप में दुर्घटना हुई।

सीएफआईटी से मतलब होता है कि जब पायलट के पूरी तरह नियंत्रण में हवा में उड़ रहा विमान अनजाने में जमीन, पानी या किसी चीज से टकरा जाए। दुनिया भर में विमान हादसों के लिए मुख्य तौर पर यही कारण ज़िम्मेदार माना जाता रहा है।

वायु सेना ने यह भी कहा है कि कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने कुछ अहम सुझाव दिए हैं जिसकी समीक्षा की जा रही है। 

नौसेना और सेना के वन-स्टार अधिकारियों और भारतीय वायुसेना में सबसे वरिष्ठ हेलीकॉप्टर पायलट मानवेंद्र सिंह की अध्यक्षता में त्रि-सेवा जांच दुर्घटना के तुरंत बाद शुरू की गई थी।

वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी के चौधरी ने जांच समिति के प्रमुख एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के साथ 5 जनवरी को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को निष्कर्षों के बारे में जानकारी दी थी।

देश से और ख़बरें
बता दें कि जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 12 अन्य सशस्त्र बलों के कर्मियों को ले जा रहा एक Mi-17V5 हेलीकॉप्टर तमिलनाडु के कोयंबटूर में पिछले साल 8 दिसंबर को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। दुर्घटना में सीडीएस जनरल रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य लोगों की मौत हो गई। हेलिकॉप्टर पर सवार ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह चमत्कारिक रूप से दुर्घटना में बच गये थे लेकिन कुछ दिनों बाद गंभीर रूप से जलने से उनका भी निधन हो गया था।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें