loader

हाय रे कोरोना, कई शहरों के श्मशानों-कब्रिस्तानों में लग रही लंबी लाइन

कोरोना महामारी की इस दूसरी लहर ने शुरुआती दिनों में ही ऐसे दुर्दिन दिखा दिए हैं, जिनकी कल्पना शायद लोगों ने कभी नहीं की थी। क्योंकि वैक्सीन आ चुकी थी, टीकाकारण शुरू हो गया था और कोरोना के मामले 20 हज़ार से नीचे आ रहे थे। लेकिन अचानक ही पिछले डेढ़ महीने में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा दो लाख तक पहुंच गया। 

बीते एक हफ़्ते से देश के कई शहरों में कोहराम मचा हुआ है। दिल्ली से लेकर लखनऊ और रायपुर के श्मशान घाटों पर लंबी लाइन लग रही है। पहले अस्पतालों में जगह, बेड्स, आईसीयू, वेंटिलेटर नहीं हैं और जब इन सबके बिना किसी की मौत हो जाए जो श्मशानों और कब्रिस्तानों में अंतिम संस्कार के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली की बात करें तो यहां निगमबोध घाट पर हर दिन 30 से ज़्यादा अंतिम संस्कार हो रहे हैं। एनडीटीवी के मुताबिक़, 27 साल के गौतम के दादा की मौत रविवार रात को हुई थी और वे सुबह 8.30 बजे निगमबोध घाट पर उनका शव लेकर पहुंचे थे लेकिन पांच घंटे बाद भी अंतिम संस्कार नहीं हो सका था। और इसके पीछे वजह जगह की कमी होने की थी। गौतम ने कहा कि यहां हालात बेहद ख़राब हैं और हर एंबुलेंस में 2-3 डेड बॉडी आ रही हैं। 

क्रबिस्तान में हालात बदतर

दिल्ली के सबसे बड़े क्रबिस्तान में भी इन दिनों पहले के मुक़ाबले ज़्यादा गढ्ढे खोदे जा रहे हैं लेकिन यहां भी जगह ख़त्म होती जा रही है। यह क्रबिस्तान आईटीओ के नज़दीक है। कब्रिस्तान का प्रबंधन देखने वाले मोहम्मद शमीम एनडीटीवी से कहते हैं, “पहले दिन में एक या दो शव आते थे लेकिन अब हर दिन 17 शव आ रहे हैं और पिछले पांच दिनों में हालात बदतर हुए हैं।” 

शमीम बताते हैं कि उनके पास अब सिर्फ़ 90 शवों के लिए ही गढ्ढे खोदने की जगह है और अगर हालात यही रहे तो अगले 10 दिन के अंदर जगह ख़त्म हो जाएगी। 

Delhi Crematoriums full due to covid death - Satya Hindi

नये शवदाह गृह बनाने की ज़रूरत

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में हालात बदतर हैं। रायपुर के श्मशान घाट के प्रबंधक ने एनडीटीवी को बताया कि हर दिन यहां 10 शव आ रहे हैं और एक दिन यह आंकड़ा 16 तक पहुंच गया था। रायपुर के डॉ. भीमराव आंबेडकर अस्पताल में शवों को रखने की जगह ख़त्म हो गयी है और कुछ दिन पहले यहां 1 दिन में 50 मौतें हुई हैं। हालात इतने ख़राब हैं कि राज्य सरकार ने रायपुर नगर निगम से कहा है कि वह सात दिनों के अंदर विद्युत शवदाह गृहों के टेंडर निकाले और 6 नये शवदाह गृह जल्द बनाए। 

भोपाल में भी हालात ख़राब 

यही हाल भोपाल का है जहां श्मशान घाट ओर कब्रिस्तान में पहले से कहीं ज़्यादा लाशें पहुंच रही हैं। इस वजह से कब्रिस्तान में जगह और श्मशान घाटों में लकड़ियों की कमी होने लगी है। लोगों को श्मशान घाटों और क्रबिस्तान में अपने परिजनों की अंतिम क्रिया के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। 

लखनऊ के हालात 

लखनऊ का वो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें एक ही साथ कई चिताएं जल रही हैं। यहां के बैकुंठ धाम और भैंसा गृह में हालात बेहद ख़राब हैं। शवदाह के लिए लकड़ियां ख़त्म हो चुकी हैं हालांकि प्रशासन कह रहा है कि ऐसा नहीं है। यही हाल कई कब्रिस्तानों का भी है और वहां बीते कुछ दिनों में बड़ी संख्या में शव आ रहे हैं और गड्ढे खोदने का काम जारी है। 

देश से और ख़बरें

सूरत के हाल

सूरत के जहागिरपुरा शवदाह गृह के बाहर से आई एक फ़ोटो से पता चलता है कि यहां हालात कितने ख़राब हैं। शवदाह गृह के बाहर एंबुलेंस की कतार लगी हुई है और इनमें लाशें रखी हुई हैं। 

टीओआई के मुताबिक़, वडाज स्थित शवदाह गृह में पहले जहां 4 से 5 शव रोज आते थे, वहां अब 20 शव आ रहे हैं और ऐसा बीते कई दिनों से हो रहा है। इस शवदाह गृह के बाहर भी अंतिम संस्कार के लिए लंबी लाइनें लग रही हैं। 

हालात ये हैं कि यहां इस्तेमाल होने वाली चिमनी तक पिघलनी शुरू हो चुकी हैं क्योंकि ये दिन भर जलती रहती हैं। सूरत के मोरा भागल कब्रिस्तान में गड्ढे खोदने के लिए बड़ी मशीन लाई गई है। यहां मंगलवार को कोरोना के कारण मुसलिम समुदाय के 22 लोगों की मौत हुई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें