loader

सूचना के अधिकार पर अब न्यायपालिका का वार

सूचना के अधिकार ने देश में भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने और भ्रष्टाचारियों को जेल भेजने में मदद की। इस अधिकार ने सरकार को जबावदेह बनाने की दिशा में बड़ी भूमिका अदा की। आम आदमी से सरकारें डरने लगीं। सरकारों ने इस क़ानून को ख़त्म करने की हर कोशिश की। अब यह क़ानून दिल्ली हाईकोर्ट के एक फ़ैसले से पूरी तरह से बे-असर हो सकता है। 

बेअसर हो जाएगा आरटीआई क़ानून

दिल्ली हाई कोर्ट का एक फ़ैसला हैरान करने वाला है, जिसके बाद सूचना का अधिकार (आरटीआई) क़ानून अब पूरी तरह बेअसर हो जाएगा और स्वतंत्र हैसियत वाला केंद्रीय सूचना आयोग एक आम सरकारी महकमे की तरह हो जाएगा, जिसका काम किसी भी सूचना को सार्वजनिक करने से इंकार करना ही रह जाएगा।

ख़ास ख़बरें
आरटीआई क़ानून को कुंद करने की कोशिशें केंद्र सरकार के स्तर पर तो पहले से ही हो रही हैं, लेकिन अब इस क़ानून को पूरी तरह बेअसर बनाने की क़वायद पहली बार न्यायपालिका के स्तर पर हुई है।
दिल्ली हाई कोर्ट के फ़ैसले के मुताबिक़, अब सूचना के अधिकार के तहत सूचना माँगने वाले व्यक्ति को सूचना माँगने का मक़सद भी बताना होगा।

अब तक क़ानूनी प्रावधान न होने के बावजूद भी कई मामलों में सरकार की ओर से जनहित या देशहित का हवाला देकर सूचना देने से इसी आधार पर इनकार किया गया है कि आवेदक ने सूचना माँगने का उद्देश्य स्पष्ट नहीं किया है। 

क्या कहा है हाई कोर्ट ने?

दिल्ली हाई कोर्ट का यह फ़ैसला उस याचिका पर आया है, जिसमें आरटीआई के तहत केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) से राष्ट्रपति सचिवालय में हुई नियुक्तियों के संबंध में जानकारियाँ माँगी गई थीं। अदालत ने इस मामले में जानकारी न देने के सीआईसी के फ़ैसले को कायम रखते हुए याचिका दायरकर्ता यानी जानकारी माँगने वाले व्यक्ति पर 25 हज़ार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। 

दिल्ली हाई कोर्ट का यह फ़ैसला साफ तौर पर आरटीआई क़ानून की मूल भावना के ख़िलाफ़ है और साथ ही इस क़ानून को पूरी तरह बेअसर बनाने वाला न्यायिक कदम भी, जो कि देश की आजादी के 58 वर्षों बाद देश के नागरिकों को हासिल हुआ था।

1975 के बाद अलग-अलग मुक़दमों में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सूचना का अधिकार एक मूलभूत अधिकार है, इसलिए इसको लेकर क़़ानून बनाया जाए। कई स्वयंसेवी संगठनों ने इस क़ानून को बनाने की माँग को लेकर आंदोलन भी किए। लंबी जद्दोजहद के बाद वर्ष 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने इस क़ानून को पारित भी करा लिया था लेकिन इसे लागू नहीं किया गया था। 

delhi high court decision on right to information act2 - Satya Hindi

वजह बताने की ज़रूरत नहीं थी

2005 में डॉ. मनमोहन सिंह की अगुवाई वाली यूपीए सरकार ने इस क़ानून को संसद से पारित भी कराया और इसे लागू भी किया।

संसद में जब यह क़ानून पारित किया गया था, तो उसमें विशेष तौर पर धारा 6(2) शामिल की गई थी। इस धारा के मुताबिक़, सूचना के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति को इसके लिए कोई वजह देने की ज़रूरत नहीं होगी। दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने फ़ैसले में धारा 6(2) पर सीधे तो कोई टिप्पणी नहीं की है लेकिन इतना साफ है कि इस फैसले से ये क़ानून कुंद हो जायेगा। 

आरटीआई क़ानून की इस धारा को लेकर पहले भी सवाल उठाए गए हैं, जिन पर विचार करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सूचना के अधिकार को नागरिकों के एक मौलिक अधिकार के रूप में परिभाषित किया है।

मौलिक अधिकार

सर्वोच्च अदालत ने साफ किया है कि इस क़ानून का इस्तेमाल करने यानी कोई जानकारी माँगने के लिए किसी को उसकी वजह बताने की ज़रूरत नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक़, सूचना का अधिकार एक मौलिक अधिकार है और यह भारत में जन्मे हर नागरिक को प्राप्त है।

पारिभाषिक तौर पर देखा जाए तो मौलिक अधिकार का अर्थ है कि अधिकार में कोई शर्त निहित नहीं है। यानी किसी भी व्यक्ति को अपने मौलिक अधिकारों के इस्तेमाल के लिए उसकी वजहें बताने की ज़रूरक नहीं है।

इस व्यवस्था के आधार पर सूचना के अधिकार को संविधान के अनुच्छेद 19(1)ए में प्रदत्त भाषण एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और अनुच्छेद 21 में वर्णित जीवन के अधिकार के तहत सुप्रीम कोर्ट से मान्यता प्राप्त है। 

सुप्रीम कोर्ट के ख़िलाफ़ हाई कोर्ट का फ़ैसला

ज़ाहिर है कि दिल्ली हाई कोर्ट का आदेश आरटीआई कानून की मंशा के ख़िलाफ़ होने के साथ ही सुप्रीम कोर्ट के पूर्व में दिए आदेशों को भी नज़रअंदाज़ करता है, जो कि अपने आप में एक अभूतपूर्व घटना है।

अब तक तो होता यह रहा है कि कई मामलों में हाई कोर्टों के फैसलों को सुप्रीम कोर्ट पलटता रहा है, लेकिन देश के न्यायिक इतिहास में यह पहला मौका जब किसी मामले में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व में दिए गए आदेश के विपरीत किसी हाई कोर्ट ने आदेश दिया है।

अब दिल्ली हाई कोर्ट का यह फ़ैसला तब तक नज़ीर बना रहेगा जब तक कि सुप्रीम कोर्ट इसे पलट न दे। लेकिन पिछले कुछ समय से सुप्रीम कोर्ट जिस तरह महत्वपूर्ण मामलों में सरकार के अनुकूल फ़ैसले दे रहा है, उसे देखते हुए ज्यादा संभावना इसी बात की है कि सुप्रीम कोर्ट के पास जब भी यह मामला जाएगा तो उसका भी फ़ैसला दिल्ली हाई कोर्ट के फ़ैसले से अलग नहीं होगा।

वैसे भी गृह मंत्री अमित शाह और क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद 2०18 में सबरीमाला मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के वक़्त ही कह चुके हैं कि अदालतें फ़ैसले ऐसे दे कि जिन पर सरकारें अमल कर सके और लोगों से भी करवा सकें।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अनिल जैन
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें