loader

किसान संगठनों का देशभर में राज भवन की ओर कूच

किसान संगठनों ने शनिवार को देशभर में राजभवनों की ओर कूच किया है। 2020 में आज ही के दिन किसानों ने दिल्ली के तमाम बॉर्डर पर और देश भर में केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था। शनिवार को उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड आदि राज्यों में किसान संगठनों ने अपनी ताकत दिखाई है। 

किसान संगठनों का कहना है कि सरकार ने उन्हें लिखित में आश्वासन दिया था कि वह फसलों के लिए एमएसपी लागू करेगी लेकिन अभी तक कुछ नहीं किया गया है। 

26 नवंबर, 2020 को किसान संगठनों ने दिल्ली के सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर डेरा डाल दिया था। किसानों ने 1 साल तक तमाम जगहों पर जोरदार प्रदर्शन किया था। कई बार ट्रेनें रोकी गई थीं। किसानों की मांगों के आगे झुकते हुए नवंबर, 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का एलान किया था। 

ताज़ा ख़बरें
किसानों ने बार-बार कहा था कि वे उनकी मांग माने बिना बॉर्डर्स से नहीं हिलेंगे। कई राज्यों के किसानों का समर्थन इस आंदोलन को मिलने और विपक्षी दलों के नेताओं के साथ आने के बाद दिल्ली की हुक़ूमत की मुश्किलें बढ़ गई थीं। 
farmers protest march to Raj Bhavans  - Satya Hindi

माना गया था कि पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी ने यह फैसला लिया था। किसान आंदोलन की वजह से बीजेपी के नेताओं को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड और देश के अलग-अलग इलाकों में जोरदार विरोध का सामना करना पड़ा था। 

शनिवार को लखनऊ में मजदूर किसान महापंचायत भी रखी गई। इसमें किसान नेता राकेश टिकैत भी शामिल हुए। उन्होंने कहा है कि किसानों के कई मुद्दे हैं जिनकी ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। किसानों का कहना है कि उनके साथ वादाखिलाफी की गई है। 

किसानों की मुख्य मांग 

  • एमएसपी की कानूनी गारंटी दी जाए। 
  • किसानों का कर्जा माफ हो। 
  • किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस हों। 
  • सिंचाई के लिए फ्री बिजली दी जाए। 
  • आवारा पशुओं का बंदोबस्त किया जाए। 
  • गन्ने का बकाया भुगतान किया जाए। 
  • बिजली की 24 घंटे आपूर्ति की जाए। 

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए उत्तर प्रदेश के साथ ही तमाम राज्यों में पुलिस प्रशासन अलर्ट पर है। 
चंडीगढ़ में भी बड़ी संख्या में संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े किसान पहुंचे हैं और उन्होंने राजभवन की ओर कूच किया है। बताना होगा कि कृषि कानूनों खिलाफ चले आंदोलन में सबसे बड़ी भागीदारी पंजाब के किसानों की ही थी। किसान नेताओं ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार एमएसपी को कानूनी गारंटी देने जैसी उनकी सबसे बड़ी मांग पर विचार करने के लिए तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि हम सरकार को संदेश देना चाहते हैं कि किसानों और मजदूरों की एकता को तोड़ा नहीं जा सकता। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें