loader

महंगे पेट्रोल पर बोले केंद्रीय मंत्री, फ्री वैक्सीन के लिए पैसा कहां से आएगा?

महंगे पेट्रोल और डीजल के कारण देश भर के लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। लेकिन मोदी सरकार के एक मंत्री का कहना है कि पेट्रोल के महंगे दामों पर सरकार ने टैक्स लगाया है तो लोगों को फ्री वैक्सीन भी मिल रही है। 

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री रामेश्वर तेली का कहना है कि पेट्रोल की क़ीमत ज़्यादा नहीं है बल्कि इस पर लगने वाले टैक्स की वजह से यह महंगा हो जाता है। 

तेली ने असम के तिनसुकिया में कहा, “फ्री वैक्सीन उपलब्ध कराने में जो पैसा लग रहा है, वह टैक्स से ही आता है। आप लोगों ने फ्री वैक्सीन ली होगी, इसके लिए पैसा कहां से आएगा। आपने तो इसके लिए कोई पैसा दिया नहीं है, ये पैसा इसी तरह इकट्ठा किया गया।” 

ताज़ा ख़बरें

केंद्रीय मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पैकेज्ड पानी तो पेट्रोल से भी महंगा है। उन्होंने कहा कि असम में एक लीटर पेट्रोल 98 रुपये का है लेकिन हिमालय के पानी की एक बोतल 100 रुपये की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें पेट्रोल पर वैट घटा सकती हैं। 

‘नसीब वाला प्रधानमंत्री’ 

पेट्रोल-डीजल की हाहाकारी क़ीमतों से परेशान लोग बीजेपी से गुहार लगा रहे हैं कि वह ‘नसीब वाले प्रधानमंत्री’ से कहकर इनकी क़ीमतें कम करे। लेकिन उनकी कोई नहीं सुन रहा है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ साल पहले एक रैली में पेट्रोल-डीजल सस्ता होने पर कुछ पैसा लोगों की जेब में बचने पर ख़ुद को नसीब वाला प्रधानमंत्री बताया था। 

देश से और ख़बरें

तोड़ दिए रिकॉर्ड 

हालात इस कदर ख़राब हैं कि देश के कई बड़े शहरों में पेट्रोल बहुत पहले ही 100 के आंकड़े को पार कर चुका है। यही डाल डीजल का भी है और यह भी पेट्रोल से ज़्यादा पीछे नहीं है। इससे आम लोगों की कमर टूट चुकी है। 

कांग्रेस का आरोप 

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि मोदी सरकार ने पेट्रोल पर 32.90 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 31.80 रुपये प्रति लीटर की एक्साइज ड्यूटी लगाई है और ऐसा करके उसने पिछले सात साल में 22 लाख करोड़ रुपये कमा लिए हैं। 

2014 के लोकसभा चुनाव से पहले पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों को लेकर तत्कालीन यूपीए सरकार पर बरसने वाली बीजेपी मोदी सरकार के राज में ईंधन की आसमान छूती क़ीमतों पर मौन है। इसी तरह एलपीजी सिलेंडर भी लगातार महंगा होता जा रहा है।

कोई सुनने वाला नहीं 

जिस तरह ईंधन के दामों में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है, उससे नहीं लगता कि जनता को कोई राहत आने वाले दिनों में मिलने वाली है। महंगाई की मार से कराह रही जनता को लगातार महंगा ईंधन ख़रीदना पड़ रहा है लेकिन उसकी सुनने वाला कोई नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें