loader

आख़िरकार विकास दुबे भी मुठभेड़ में मारा गया 

गैंगस्टर विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया। पुलिस ने इसकी पुष्टि कर दी है। उसके कई साथी मुठभेड़ में पहले ही मारे जा चुके हैं। मध्य प्रदेश के उज्जैन में गिरफ़्तार हुए उत्तर प्रदेश के गैंगस्टर को कानपुर ले जाने के दौरान रास्ते में गाड़ी पलट गई थी। पुलिस ने दावा किया है कि इस हादसे के बाद विकास दुबे हथियार पुलिसकर्मियों से छीनकर भागने की कोशिश की। इस दौरान मुठभेड़ हुई। पुलिस का कहना है कि उसने पुलिसकर्मियों पर गोली चला दी, इसके जवाब में पुलिस ने भी आत्म सुरक्षा में गोली चलाई। इसमें विकास दुबे को गोली लगी। इस घटना के बाद विकास दुबे को अस्पताल में लाया गया जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

ताज़ा ख़बरें

8 पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे को आज कानपुर में कोर्ट में पेश किया जाना था। उत्तर प्रदेश की एसटीएफ़ उज्जैन विकास दुबे को लेकर कानपुर लेकर जा रही थी। जिस गाड़ी में विकास दुबे को ले जाया जा रहा था वह गाड़ी रास्ते में ही कानपुर के पास भौंती के पास पलट गई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एसटीएफ़ ने कहा है कि गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने पुलिसकर्मियों से हथियार छीनकर भागने की कोशिश की। इसी दौरान मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में ही वह मारा गया। यह मुठभेड़ शुक्रवार सुबह क़रीब साढ़े सात बजे हुई। कहा जा रहा है कि कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। हालाँकि यह साफ़ नहीं है कि वे गोली लगने से घायल हुए हैं या फिर गाड़ी के पलटने से। (वीडियो में देखिए घटना स्थल की स्थिति)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस वालों को मौत के घाट उतारने वाले मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे को उज्जैन में पकड़ा गया था, लेकिन उस पर भी विवाद था। कुछ रिपोर्टों में कहा गया था कि उसने सरेंडर किया था, हालाँकि पुलिस गिरफ़्तारी का दावा कर रही है। 

उस घटना के बाद से विकास फरार था। उसके हरियाणा के फरीदाबाद में होने की सूचना आई थी। पुलिस को वहाँ से चकमा देकर भागने की जानकारियाँ भी आई थीं। यूपी पुलिस ने पाँच लाख रुपये का इनाम उस पर घोषित किया था। यूपी पुलिस सरगर्मी से विकास की तलाश कर रही थी।बता दें कि विकास दुबे पर 60 आपराधिक मुक़दमे दर्ज थे। दुबे का नाम पहली बार चर्चा में तब आया था, जब उसने 2001 में उत्तर प्रदेश सरकार के तत्कालीन राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की पुलिस थाने के अंदर हत्या कर दी थी। शुक्ला राजनाथ सिंह की सरकार में मंत्री थे। विकास दुबे काफी समय से गैंग बनाकर लूटपाट और हत्याएँ कर रहा था और इसीलिए उसका एक लंबा आपराधिक इतिहास रहा था। 

देश से और ख़बरें

मुठभेड़ पर सवाल

जिस समय विकास दुबे के गिरफ़्तार होने की ख़बर आई थी उसी समय यह आशंका जताई गई थी कि कोर्ट में पेश किए जाने से पहले कहीं उसे मुठभेड़ में मार तो नहीं दिया जाएगा। और हुआ भी यही। इस मुठभेड़ पर सवाल खड़े होते रहेंगे। 

ये सवाल इसलिए भी खड़े होंगे क्योंकि कई रिपोर्टों में यह कहा गया कि विकास दुबे ने सरेंडर किया है। यह इस बात की भी पुष्टि करता है कि महाकाल मंदिर में वह कहता है कि 'मैं विकास दुबे हूँ कानपुर वाला'। और जब पुलिस ने दावा किया कि उसे गिरफ़्तार किया गया है तब विकास दुबे के पास कोई हथियार भी नहीं था। एक सवाल यह भी खड़ा हो रहा है कि उस गाड़ी में एसटीएफ़ के जवान थे और उसमें सिर्फ़ विकास दुबे ही अपराधी था। जब गाड़ी पलटी तब एक बदमाश क्या उतने सारे पुलिसकर्मियों से बंदूक छीन कर भाग सकता है और क्या उसे पकड़ना इतना मुश्किल हो सकता है कि उसे गोली मारना पड़े!

ऐसी ही मुठभेड़ उसके सहयोगी के साथ भी हुई थी

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के दो सहयोगी गुरुवार सुबह अलग-अलग मुठभेड़ में मारे गए थे। इन दोनों में से एक तो हिरासत में था और पुलिस के अनुसार कानपुर ले जाने के दौरान भागने की कोशिश में मारा गया, जबकि दूसरे के साथ पुलिस की आमने-सामने की मुठभेड़ हुई। इस मामले में मुठभेड़ में विकास दुबे का एक सहयोगी बुधवार को भी मारा गया था। गुरुवार को जिस आरोपी ने भागने की कोशिश की थी उसका नाम प्रभात मिश्रा था। उसे उस मुठभेड़ से एक दिन पहले ही दो अन्य आरोपियों के साथ गिरफ़्तार किया गया था। पुलिस का दावा है कि कानपुर ले जाने के दौरान उसने रास्ते में भागने का प्रयास किया। पुलिस के अनुसार, 'प्रभात के साथ वाले पुलिसकर्मी पुलिस वैन के टायर को बदलने की कोशिश कर रहे थे, तभी प्रभात ने उनसे पिस्तौल छीन ली और भागने की कोशिश की। उसने पुलिसकर्मियों पर गोली चला दी और पुलिसकर्मियों ने जवाबी कार्रवाई की। उसे पैर में गोली लगी और उसे अस्पताल ले जाया गया। इससे उसकी मौत हो गई।'
बता दें कि कानपुर देहात के बिकरू गाँव में गुरुवार देर रात को हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने हमला कर दिया था। इसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। शहीद होने वालों में डिप्टी एसपी और बिल्होर के सर्किल अफ़सर देवेंद्र मिश्रा, स्टेशन अफ़सर शिवराजपुर महेश यादव भी शामिल थे। दो सब इंस्पेक्टर और चार सिपाही भी शहीद हुए हैं। इसके अलावा सात पुलिस कर्मी घायल हुए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें