loader

गौतम अडाणी भी दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीरों की लिस्ट मेंः ब्लूमबर्ग

भारत के जाने-माने उद्योगपति गौतम अडाणी भी दुनिया के सबसे अमीर 10 लोगों की सूची में शामिल हो गए हैं। इस सूची में वो शामिल होते हैं जिनके पास 100 अरब डॉलर या उससे ज्यादा की संपत्ति होती है। यह सूची ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स जारी करता है। इसे सेंटीबिलियनेयर्स क्लब भी कहा जाता है। अडानी के पास भारत के बंदरगाह, खदानें और ग्रीन एनर्जी जैसे उद्योगों में एकाधिकार हासिल है। अब वो उन 10 सदस्यों में शामिल हो गये है, जिन्हें दुनिया का सबसे अमीर बिजनेसमैन माना जाता है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार मुकेश अंबानी, जिनकी कुल संपत्ति अक्टूबर 2021 में उस बेंचमार्क में सबसे ऊपर थी, अब उससे थोड़ा नीचे $99 बिलियन हो गई है।
ताजा ख़बरें
अदाणी की तरक्की की कहानी शानदार है। वो कॉलेज ड्रॉपआउट हैं, जिसने पहली बार कोयले के धंधे में किस्मत आजमाई। पिछले दो वर्षों में अपनी लगभग सारी संपत्ति बनाई है। ग्रीन एनर्जी, और इन्फ्रास्ट्रक्चर बिजनेस में उन्होंने फ्रांस के टोटल एसई और वारबर्ग पिंकस सहित कई कंपनियों से निवेश किया।

तेल के धंधे पर नजर रखने वाले बताते हैं कि गौतम अभी भी दुनिया की सबसे बड़े तेल निर्यात कंपनी में हिस्सेदारी खरीदने की संभावना टटोल रहे हैं। वो सऊदी अरब में संभावित साझेदारों की तलाश कर रहे हैं।

अदाणी समूह के शेयरों में 2020 के बाद से 1,000% से अधिक की वृद्धि हुई है। 2021 अमीरों के लिए एक अच्छा वर्ष था, दुनिया के 500 सबसे धनी लोगों ने अपनी संयुक्त संपत्ति में $ 1 ट्रिलियन से अधिक जोड़ा। 59 साल के अदाणी तब इस रेस से बाहर थे। उनकी कुल संपत्ति में 42.7 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई, जो कि सबसे बड़े लाभों में से एक है। फरवरी में वह अंबानी को पीछे छोड़ते हुए कुछ समय के लिए एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए।
अंबानी तेल और पेट्रोकेमिकल्स की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष हैं, वो उन लोगों में शामिल हैं, जिन्होंने बड़े पैमाने पर अमेरिकी आईटी इंडस्ट्री में अपनी किस्मत बनाई है। अडाणी की तरह, अंबानी अपने समूह को नए उद्योगों - ई-कॉमर्स और टेक - में फेसबुक और गूगल सहित बैकर्स से निवेश में अरबों डॉलर प्राप्त करने में सक्षम थे।

देश से और खबरें

हाल के वर्षों में पैसे बनाने के मामले में तेजी आई है। 2017 में, ऐमजॉन डॉट कॉम के जेफ बेजोस, 1999 में माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स के बाद से $ 100 बिलियन क्लब में जगह बनाने वाले पहले व्यक्ति थे। टेस्ला के एलोन मस्क, अब दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं। 273 बिलियन डॉलर के साथ 2020 में वो इस समूह में शामिल हुए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें