loader

गुनाः एक और आरोपी ढेर, बारातियों को मांस परोसने के लिए किया था शिकार

मध्य प्रदेश के गुना जिले के आरोन जंगल में काले हिरण के शिकार की सूचना पर बदमाशों को पकड़ने पहुंचे तीन पुलिस वालों को गोली से उड़ा देने वाले आरोपियों की धरपकड़ तेज है। छापेमारी के बीच पुलिस दल ने एक और आरोपी को एनकाउंटर में ढेर कर दिया है। जबकि बाकी आरोपियों की पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है।बता दें, गुना जिले के आरोन थाना पुलिस को शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात मुखबिर से सूचना मिली थी कि आरोन के जंगल में काले हिरणों का शिकार हुआ है। छह-सात की संख्या में बदमाश मौके से शिकार लेकर भागने की तैयारियों में हैं। इसके बाद रात करीब तीन बजे मौके पर पहुंची पुलिस को देखते ही बदमाशों ने पुलिस बल पर हमला बोल दिया था। करीब घंटा भर तक दोनों और से संघर्ष चलता रहा था।
ताजा ख़बरें
बदमाशों ने पुलिस वालों पर दनादन गोलियां चलाईं थीं, जिसमें आरोन थाना के एक सब इंस्पेक्टर, एक हवलदार और एक आरक्षक की मौत हो गई थी। पुलिस को लेकर पहुंचा वाहन चालक जख्मी हो गया था। हमले के बाद आरोपी अपनी मोटर साइकिलों पर भाग खड़े हुए थे।मौके से शिकार किए गए कई काले हिरण और चीतल मिले थे। मोर भी मृत हालत में पाये गये थे। घटना सामने आते ही हड़कंप मच गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुबह आपात बैठक बुलाकर अफसरों को फटकार लगाई थी। ग्वालियर के आईजी को लेतलायी बरतने और मौके पर पहुंचने में देर करने पर हटा दिया गया था।पुलिस के दल बनाये गये थे। छापामारी शुरू हुई थी। मुख्यमंत्री ने बताया था कि आरोपियों की पहचान कर ली गई है। किसी को भी बख्शा नहीं जायेगा। ऐसी सख्त कार्रवाई आरोपियों के खिलाफ होगी, जो नज़ीर बनेगी।उधर गुना में पुलिस की छापेमारी के बीच दोपहर को नौशाद नामक शख्स से शव मिल गया था। नौशाद की मौत पुलिस की गोली लगने से होना बताया गया था।
अन्य आरोपियों की खोजबीन के लिए पुलिस पूरे दिन छापामारी करती रही। शाम को खबर आयी कि पुलिस वालों को मौत के घाट उतारने वाले अन्य आरोपी शहजाद खान को पकड़ने पहुंची पुलिस पर हमला बोला गया। गोलियां चलाईं। इसके बाद पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए एनकाउंटर में उसे ढेर कर दिया। पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों ने गुना शिकार कांड और पुलिस वालों को मार डालने वाले दूसरे आरोपी शहजाद की पुलिस से मुठभेड़ में मारे जाने की पुष्टि की है।
पुलिस की छानबीन में सामने आया है कि नौशाद की भतीजी का आज निकाह था। निकाह में बारातियों को परोसने के लिए काले हिरणों, चीतल और मोर का शिकार किया गया था। शिकार को समेटकर लाते वक्त पुलिस पहुंच गई।  आरोपियों ने पुलिस बल पर हमला बोल दिया। जिसमें तीन पुलिस वाले शहीद हो गए। पुलिस की गोली लगने से घायल नौशाद ने भागते समय रास्ते में दम तोड़ दिया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें