loader

वैक्सीन की कमी: फाइजर, मॉडर्ना के टीके क्यों नहीं; कौन ज़िम्मेदार?

फाइजर और मॉडर्ना ने राज्यों से कहा है कि वे भारत सरकार से ही सौदा कर सकती हैं और अब केंद्र सरकार ने कहा है कि उन दोनों कंपनियों के पहले से ही ऑर्डर फुल हैं। यानी भारत को अभी इन कंपनियों की वैक्सीन के लिए अनिश्चित समय के लिए इंतज़ार करना पड़ेगा। ऐसी स्थिति क्यों आई? आप ख़ुद ही अंदाजा लगाइए। यह वही फाइजर कंपनी है जो दिसंबर में ही अपनी वैक्सीन भारत में उपलब्ध कराने के लिए आपात इस्तेमाल की मंजूरी मांग रही थी और भारत सरकार ने मंजूरी देने से इनकार कर दिया था। जनवरी की शुरुआत तक तो दुनिया के कई देशों ने मंजूरी दे भी दी थी। अमेरिका ने तो इस कंपनी को पिछले साल जुलाई में ही 10 करोड़ खुराक के लिए अग्रिम ऑर्डर दे दिया था। बाद में इसने मॉडर्ना को भी ऐसे ऑर्डर दिए। यूरोपीय देश भी पीछे नहीं रहे और इन्होंने भी दोनों कंपनियों को करोड़ों खुराक के लिए ऑर्डर दिए। तो फिर भारत क्यों पीछे रहा?
ताज़ा ख़बरें

इस सवाल के जवाब से पहले यह जान लें कि केंद्र सरकार ने फाइजर और मॉडर्ना कंपनियों के बारे में क्या कहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को जो सचाई है उसे स्वीकार किया। मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा, 'चाहे फाइजर हो या मॉडर्न, हम केंद्रीय स्तर पर समन्वय करते रहे हैं… फाइजर और मॉडर्न दोनों की ज़्यादातर समय ऑर्डर बुक पहले से ही भरी हुई है। यह उनके सरप्लस यानी अधिशेष पर निर्भर करता है कि वे भारत को कितना दे सकते हैं। वे भारत सरकार से संपर्क करेंगे और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उनकी खुराक की आपूर्ति राज्य स्तर पर की जा सके।'

सरकार की यह प्रतिक्रिया सोमवार शाम को तब आई थी जब सुबह ही अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि जब राज्य सरकार ने फाइजर और मॉडर्ना से संपर्क किया तो इन कंपनियों ने साफ़ तौर पर कह दिया कि वे केंद्र सरकार से सौदा करेंगी, राज्यों से नहीं। 

केजरीवाल से एक दिन पहले ही पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी यही बात कही थी। उन्होंने कहा था जब मॉडर्ना कंपनी से संपर्क किया गया तो उसने सीधे राज्य को बेचने से इनकार कर दिया। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने भी सोमवार को कहा था कि वैक्सीन निर्माता मॉडर्ना ने सीधे पंजाब सरकार को वैक्सीन भेजने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को पहल करनी चाहिए और टीकों की खरीद में राज्य सरकार का समर्थन करना चाहिए।
दरअसल, जिस फाइजर की वैक्सीन के लिए प्रयास किए जा रहे हैं वह देश में सबसे पहली कंपनी थी जिसने कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी मांगी थी। फिर ऐसी नौबत क्यों आई?

इसने दिसंबर महीने की शुरुआत में ही ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया यानी डीजीसीआई के सामने आवेदन दिया था। तब उसे ब्रिटेन और बहरीन में टीकाकरण के लिए मंजूरी मिल भी चुकी थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने भी सबसे पहले फाइजर को ही मंजूरी दी थी। इसकी वैक्सीन संक्रमण को रोकने में 95% प्रभावी पाई गई है।

health ministry says pfizer and moderna vaccine order full, will have to wait - Satya Hindi

हालाँकि, कई प्रयासों के बाद जब इसे मंजूरी नहीं मिली तो फाइजर ने वैक्सीन की आपात मंजूरी के लिए दिया गया अपना आवेदन आख़िरकार 5 फ़रवरी को वापस ले लिया। तब कंपनी ने कहा था कि दो महीने तक अधिकारियों से मंजूरी के लिए इंतज़ार करने के बाद इसने अपने आवेदन को वापस लेने का फ़ैसला लिया है। आख़िरी बार 3 फ़रवरी को विशेषज्ञों की समिति के साथ बैठक में भी बात नहीं बनी। अधिकारियों ने फ़ाइजर से और अधिक जानकारी मांगी जो कंपनी नहीं दे पाई।

देश से और ख़बरें

फाइजर ने भारत में टीके का ट्रायल नहीं किया था। भारत में आवेदन करने से पहले ही फ़ाइज़र को इंग्लैंड में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल चुकी थी और इसका टीका भी लगाया जाने लगा था। इसी आधार पर फ़ाइज़र ने भारत में क्लिनिकल ट्रायल से छूट देने के साथ डीसीजीआई में आवेदन किया था। न्यू ड्रग्स एंड क्लिनिकल ट्रायल नियम, 2019 के मुताबिक़ कोई कंपनी इस तरह की छूट माँग सकती है। ऐसा तभी हो सकता है जब उस वैक्सीन को दूसरे किसी देश में मंजूरी दी गई हो और इसे वहाँ से खरीदा जा रहा हो। 

विशेषज्ञ पैनल ने 1 जनवरी को बैठक में सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड को आपात मंजूरी दे दी थी। एक दिन बाद दो जनवरी को भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को भी मंजूरी दे दी गई। हालाँकि फ़ाइजर को तब भी मंजूरी नहीं दी गई और अतिरिक्त आँकड़े माँगे गए थे। 

ख़ास ख़बरें

लेकिन देश में अप्रैल महीने में जब कोरोना की दूसरी लहर आई, स्थिति बेकाबू होने लगी और वैक्सीन नीति पर मोदी सरकार की तीखी आलोचना होने लगी तो सरकार ने कोरोना टीके की नीति में ढील दी। 13 अप्रैल को सरकार ने घोषणा की कि यह उन टीकों के लिए देश में चरण 2 और 3 के क्लिनिकल ट्रायल की शर्त को नहीं लगाएगी जिन्हें अमेरिका, यूरोपीय संघ, ब्रिटेन और जापानी नियामकों द्वारा मंजूरी दे दी गई है और डब्ल्यूएचओ द्वारा सूचीबद्ध किया गया है।

हालाँकि इन नियमों में ढील देने के क़रीब एक महीना होने को आया लेकिन अभी भी फाइजर और मॉडर्ना जैसी कंपनियों के साथ भारत का सौदा नहीं हो पाया है। हालाँकि रूस की स्पुतनिक वी टीके के लिए बात बनी है, लेकिन लगता नहीं है कि इससे स्थिति काबू में होगी। जिस तरह से देश में वैक्सीन की कमी है और टीकाकरण केंद्र बंद होते जा रहे हैं उससे सरकार में भी बेचैनी ज़रूर होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें