loader

देश में एक दिन में ओमिक्रॉन के 122 केस आए; यूपी में कल से रात का कर्फ्यू 

ओमिक्रॉन वैरिएंट का संक्रमण अब भारत में भी रफ़्तार पकड़ने लगा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा है कि एक दिन में अब तक सबसे ज़्यादा मामले 122 आए हैं। इसके साथ ही अब पूरे देश में ओमिक्रॉन संक्रमितों की संख्या बढ़कर 358 पहुँच गई है। इसी बीच अब ओमिक्रॉन के ख़तरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने शनिवार से रात के कर्फ्यू की घोषणा की है।

उत्तर प्रदेश ने शुक्रवार को एहतियात के तौर पर राज्य में रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक रात का कर्फ्यू लगा दिया है जो कर्फ्यू शनिवार रात से लागू हो जाएगा।

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शुक्रवार को अपडेट किए गए आँकड़ों के अनुसार भारत में 24 घंटे की अवधि में सबसे ज़्यादा ओमिक्रॉन के मामले आने के बाद कुल संख्या 358 तक पहुंच गई है। इनमें से 114 ठीक हो गए हैं या पलायन कर चुके हैं। यह दिखाया गया है कि अब तक 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में संक्रमण का पता चला है।

महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन वैरिएंट के सबसे अधिक 88 मामले दर्ज किए गए। इसके बाद दिल्ली में 67, तेलंगाना में 38, तमिलनाडु में 34, कर्नाटक में 31 और गुजरात में 30 मामले दर्ज किए गए हैं।

इस बीच राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में क्रिसमस और नये साल के जश्न के लिए इकट्ठे होने पर पाबंदी लगा दी गई है। महाराष्ट्र के मुंबई और कर्नाटक के बेंगलुरु जैसे शहरों में भी ऐसे जश्न के लिए लोगों को इकट्ठे होने पर पाबंदियां लगाई गई हैं। 

ओमिक्रॉन के जोखिम को देखते हुए ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कोरोना पर समीक्षा बैठक की।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने देश भर में कोरोना की स्थिति, ओमिक्रॉन और स्वास्थ्य प्रणालियों की तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान पीएम ने कहा कि नए वैरिएंट को देखते हुए हमें सतर्क और सावधान होना चाहिए।

देश से और ख़बरें

बता दें कि ओमिक्रॉन के ख़तरे को देखते हुए ही केंद्र ने राज्यों को अपनी तैयारी तेज़ करने, स्वास्थ्य व्यवस्था मज़बूत करने, जाँच व केसों की ट्रेसिंग को सुदृढ़ करने को कहा है। इसके साथ ही इसने यह भी कहा है कि किन परिस्थितियों में किस तरह के प्रतिबंध लगाए जाएं। 

केंद्र सरकार ने मंगलवार शाम को राज्यों को पत्र लिखकर कहा है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट डेल्टा वैरिएंट से तीन गुना ज़्यादा संक्रामक है। इस पर चिंता जताते हुए केंद्र ने राज्यों से कहा है कि इसे नियंत्रित करने के लिए वार रूम को सक्रिय किया ही जाना चाहिए। केंद्र ने यह भी कहा है कि ओमिक्रॉन के अलावा देश के कई हिस्सों में डेल्टा वैरिएंट अभी भी मौजूद है।

केंद्र ने कहा है कि चूँकि ओमिक्रॉन डेल्टा की तुलना में कम से कम 3 गुना ज़्यादा संक्रामक है इसलिए स्थानीय व ज़िला स्तर पर अधिक दूरदर्शिता दिखानी होगी, डेटा विश्लेषण करना होगा, गतिशील निर्णय लेने होंगे और रोकथाम के लिए कड़ी व त्वरित कार्रवाई करने की ज़रूरत है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें