loader

जयशंकर : अफ़ग़ानिस्तान के साथ खड़ा है भारत

ऐसे समय जब अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान का नियंत्रण हो जाने के बाद भारत समेत ज़्यादातर देशों ने उसे मान्यता नहीं दी है और कई ने तो साफ शब्दों में कह दिया है कि वे फ़िलहाल ऐसा नहीं करने जा रहे हैं, भारत ने एक अहम एलान किया है।

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा है कि भारत अफ़ग़ानिस्तान की जनता के साथ हमेशा रहा है और भविष्य में भी रहेगा। हालांकि उन्होंने अफ़ग़ानिस्तान सरकार का नाम नहीं लिया है और न ही तालिबान के बारे में कुछ कहा है, पर उनके इस बयान की अहमियत से इनकार नहीं किया जा सकता है। 

ख़ास ख़बरें

पर्यवेक्षकों का कहना है कि नई दिल्ली ने काबुल को संकेत दिया है कि वह उसकी मदद करेगा और उसके साथ रहेगा, भले ही आधिकारिक रूप से तालिबान को फ़िलहाल मान्यता न दे। 

जयशंकर ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान एक गंभीर और चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को आगे बढ़ कर उसकी मदद करनी चाहिए। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान के मानवीय संकट पर संयुक्त राष्ट्र में हुए एक ऑनलाइन सम्मेलन में एस. जयशंकर ने यह बात कही है। 

क्या कहा भारतीय विदेश मंत्री ने?

विदेश मंत्री ने कहा कि संकट के इस समय में संयुक्त राष्ट्र को अफ़ग़ानिस्तान में केंद्रीय भूमिका निभानी चाहिए। 

विदेश मंत्री ने कहा,

अफ़ग़ानिस्तान की जनता के प्रति भारत का रवैया इसकी ऐतिहासिक काल की मित्रता को ध्यान में रख कर रहा है।


एस. जयशंकर, विदेश मंत्री

उन्होंने इसके साथ ही यह भी कहा कि कुछ देशों की मदद के बजाय एक बहुपक्षीय उपाय किया जाना चाहिए।
पर्यवेक्षकों का कहना है कि जयशंकर का इशारा इस ओर था कि चीन, पाकिस्तान व रूस जैसे कुछ देशों की मदद से काम नहीं चलेगा, संयुक्त राष्ट्र को आगे बढ़ कर अफ़ग़ानिस्तान की मदद करनी चाहिए।

क्या कहा यूएन प्रमुख ने?

जिनीवा में हुए एक सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान की सहायता के लिए 60 करोड़ डॉलर की ज़रूरत है।

यूएन ने साफ़ कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान एक बड़े मानवीय संकट का सामना कर रहा है।

गुटेरेस ने कहा, कि अफ़ग़ानिस्तान में "तत्काल भोजन, दवा, स्वास्थ्य सेवाओं, सुरक्षित पानी की आवश्यकता है।"

'पंजशीर में 20 मारे गए'

इस बीच बीबीसी ने ख़बर दी है कि अफ़ग़ानिस्तान की पंजशीर घाटी में तालिबान और रेजिस्टेन्स फ़्रन्ट के बीच चल रही लड़ाई में कम से कम 20 नागरिक मारे गए हैं।

बीबीसी ने दावा किया है कि उसके पास इसके सबूत हैं कि संयम बरतने के वादे के बावजूद तालिबान ने लोगों को मारा है।

बीबीसी की एक फ़ुटेज में साफ दिख रहा है कि पंजशीर में धूल भरी सड़क के किनारे सेना की वर्दी पहने एक व्यक्ति दिखाई दे रहा है और उसे तालिबान लड़ाकों ने घेर रखा है। तभी गोलियों की आवाज़ सुनाई देती है और वह ज़मीन पर गिर जाता है।

यह साफ़ नहीं है कि मारा गया व्यक्ति सेना का सदस्य था या नहीं क्योंकि इस क्षेत्र में सेना जैसी वर्दी पहनना आम बात है। वीडियो में एक व्यक्ति ज़ोर देकर कहता है कि वह एक आम नागरिक है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें