loader

आठ महीने के नवजात भी हो रहे हैं कोरोना से संक्रमित

सरकार भले ही कहे कि कोरोना टीके की कोई कमी नहीं है, लेकिन 45 साल से कम के लोगों को इसकी ज़रूरत नहीं है और उन्हें नहीं दिया जाएगा, सच तो यह है कि कोरोना किसी उम्र के लोगों को नहीं बख़्श रहा है। दिल्ली के अस्पतालों में आठ महीने के बच्चों को भी तेज़ बुखार, न्यूमोनिया और कोरोना के दूसरे लक्षणों के साथ भर्ती कराया जा रहा है। 

पहले यह माना जाता था कि कोरोना संक्रमण बच्चों में नहीं फैल रहा है, लेकिन ताज़ा आँकड़े इसे ग़लत साबित करते हैं।

कोरोना से कोई सुरक्षित नहीं

जब यह माँग उठी कि 18 साल से ज़्यादा की उम्र के हर आदमी को कोरोना का टीका दिया जाए तो सरकार ने कहा कि इसकी कोई ज़रूरत नहीं है। कोरोना सिर्फ 45 साल या उससे अधिक उम्र के लोगों को हो रहा है। 

लेकिन अब ताज़ा आँकड़ों से पता चलता है कि कोरोना संक्रमण की कोई उम्र नहीं है। 

लोक नायक अस्पताल के स्वास्थ्य निदेशक सुरेश कुमार ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से कहा,

"हमारे अस्पताल में आठ बच्चे कोरोना के लक्षणों के साथ दाखिल हुए हैं। उनमें से एक आठ महीने का है, दूसरे कुछ बच्चे 12 साल से कम उम्र के हैं।"


सुरेश कुमार, स्वास्थ्य निदेशक, लोक नायक अस्पताल

अस्पतालों में कोरोना पीड़ित बच्चे

उन्होंने आगे कहा, "उनमें तेज़ बुखार, न्यूमोनिया, स्वाद की कमी, डिहाइड्रेशन और कोरोना के दूसरे लक्षण हैं।" 

सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टरों ने भी कहा था कि वहाँ भी कुछ बच्चों को कोरोना के लक्षणों के साथ भर्ती कराया गया है। 

इस अस्पताल के वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर धीरेन गुप्ता ने कहा है कि उन्हें 'रोज़ाना 20- 30 कॉल मिल रहे हैं और वह टेली-कॉन्फ्रेंसिंग और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से अभिभावकों को बच्चों के बारे में सलाह देते हैं।'

infants too hit by coronavirus - Satya Hindi

'बच्चों का इलाज कठिन'

गुड़गाँव स्थित फ़ोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीच्यूट के बाल रोग विभाग के निदेशक डॉक्टर कृषण चुग ने कहा कि कोरोना से पीड़ित बच्चों का इलाज़ बड़ों की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण है। उन्होंने कहा, "चूंकि पिछले साल कोरोना से अधिक बच्चे संक्रमित नहीं हुए थे, लिहाज़ा किसी अस्पातल में बच्चों के लिए अलग कोरोना वार्ड नहीं है। 

यह दिक्क़त भी है कि स्टेरॉयड्स या रेमडिसिवर जैसी एंटी- वायरल दवाएं बच्चों को नहीं दी जा सकती हैं। ऐसे में बच्चों को सांस के रोग, खांसी और बुखार की दवा से इलाज किया जा रहा है।

क्या कहते हैं आकड़े?

हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग के आँकड़ों के मुताबिक़, 15 मार्च से 11 अप्रैल के बीच राज्य में 41,324 लोगों को कोरोना संक्रमण हुआ, उसमें आठ प्रतिशत बच्चे थे, जिनकी उम्र 10 साल से कम थी। 

इसके पहले 5 नवंबर से 12 दिसंबर के बीच आए कोरोना संक्रमण के मामलों में बच्चों की तादाद सिर्फ एक प्रतिशत थी। 

बता दें कि देश में अब तक कोरोना से 1 लाख 73 हज़ार 123 लोगों की मौत हो चुकी है। कुल संक्रमण के मामले 1 करोड़ 40 लाख 74 हज़ार से ज़्यादा हो गए हैं।

अब तक 1 करोड़ 24 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। देश भर में फ़िलहाल 14 लाख 71 हज़ार से ज़्यादा सक्रिये मामले हैं। 

बहरहाल, देश में सबसे ज़्यादा मामले महाराष्ट्र से आए हैं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, केरल, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान में भी रिकॉर्ड मामले आ रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें