loader

जहांगीरपुरी साम्प्रदायिक हिंसा पर 'सत्य हिन्दी' के सरकार से सवाल

जहांगीरपुरी हिंसा पर केंद्र सरकार के सीधे नियंत्रण में काम करने वाली दिल्ली पुलिस के रवैए पर तमाम सवाल उठ रहे हैं और यह मुद्दा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठ रहा है। शनिवार को हुई हिंसा वाले दिन से दिल्ली पुलिस का पक्षपातपूर्ण रवैया सामने आ गया था। सत्य हिन्दी भी दिल्ली पुलिस से कुछ सवालों के जवाब चाहती है।

  •  हनुमान जयंती पर शनिवार को शोभा यात्रा निकालने की अनुमति किसने दी, क्या इसके लिए दिल्ली पुलिस ने कुछ शर्ते लगाई थीं, क्या दिल्ली पुलिस से अनुमति मांगी गई थी?
  • . हनुमान जयंती शोभा यात्रा के रूट मैप को क्या दिल्ली पुलिस ने मंजूरी दी थी?

ताजा ख़बरें
  •  क्या दिल्ली पुलिस ने यह जानकारी जुटाई थी कि शोभा यात्रा के रास्ते में कितने धार्मिक स्थल हैं। उसकी एफआईआऱ में कहा गया है कि मस्जिद से बवाल शुरू हुआ। सवाल है कि उस मस्जिद पर पुलिस पहले से क्यों तैनात नहीं की गई?
  • शोभा यात्रा के साथ चल रहे पुलिस वालों ने क्या अपने अफसरों को बताया था कि शोभा यात्रा में बहुत सारे युवक पिस्तौल, तलवारें, चाकू और डंडे लहरा रहे हैं? 
  •  शोभा यात्रा में पिस्तौल, तलवार, चाकू और डंडा लहराने का वीडियो सामने आया है। उसके बनाने वाले चश्मदीद हैं। क्यों दिल्ली पुलिस ने उस वीडियो में दिख रहे अराजक तत्वों की इन हरकतों पर आर्म्स एक्ट में कोई केस दर्ज किया। क्या उन लोगों की पहचान की गई? 

Jahangirpuri Communal Violence: Satya Hindi asks tough Question to Modi Government - Satya Hindi
  •  दिल्ली पुलिस ने शोभा यात्रा से पहले जहांगीरपुरी बी और सी ब्लॉक के मुस्लिमों को सावधान किया था या वहां के लोगों से किसी तनाव की स्थिति में मदद मांगी थी?

  •  दिल्ली पुलिस ने जहांगीरपुरी में हिंसा होने के अगले दिन पीस कमेटी की बैठकें कीं। इन बैठकों को शोभा यात्रा से पहले क्यों नहीं आयोजित किया गया ताकि उससे तनाव की स्थिति में मदद मिलती?

  •   साम्प्रदायिक हिंसा के अगले दिन दिल्ली पुलिस ने बीजेपी नेताओं को जहांगीरपुरी इलाके का दौरा करने की अनुमति क्यों दी?

Jahangirpuri Communal Violence: Satya Hindi asks tough Question to Modi Government - Satya Hindi
  •  दिल्ली पुलिस ने जहांगीरपुरी से आरोपियों के नाम पर शुरुआत में सिर्फ मुसलमानों की गिरफ्तारी क्यों की?

  •   साम्प्रदायिक हिंसा में हमेशा दो पक्ष होते हैं, क्यों उसने शोभा यात्रा आयोजित करने वाले दूसरे पक्ष के लोगों को हिंसा का जिम्मेदार ठहराया? 

  •   क्या दिल्ली पुलिस ने वो वीडियो देखा जिसमें उसके मुताबिक आरोपी अंसार ने बजरंग दल के एक युवक को चाकू के साथ पकड़ा जो मस्जिद में घुसने की कोशिश कर रहा था। अगर वीडियो देखा है तो क्या बजरंग दल के उस कार्यकर्ता को गिरफ्तार किया गया, जबकि अंसार गिरफ्तार हो चुका है?

देश से और खबरें
  •  क्या दिल्ली पुलिस ऐसी शोभा यात्राओं के निकलने से पहले अपने खुफिया तंत्र से सूचनाएं मांगती है? अगर मांगती है तो वे किस तरह की जानकारी देते हैं और उन पर किस तरह के निर्णय लिए जाते हैं? 

जहांगीरपुरी हिंसा पर अन्य लोग भी सवाल उठा रहे हैं। लेकिन देश के गृह मंत्री अमित शाह और दिल्ली पुलिस ने अभी तक ऐसा कोई बयान नहीं दिया है, जिससे प्रताड़ित वर्ग के घावों पर मरहम लग सके, वे राजधानी में खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें।

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें