loader

एक थप्पड़ में ही तोते की तरह बोलने लगा था मसूद अज़हर

बालाकोट पर ख़ास

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अज़हर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर दिया है। आइए जानते हैं कि मसूद अज़हर कौन है और कैसे वह आतंकवादी बना। 

जिस उम्र में अधिकतर युवा यह तय नहीं कर पाते कि वे भविष्य में क्या बनेंगे, उस उम्र में मसूद अज़हर आतंकवादी बनने का फ़ैसला कर चुका था। 
ख़ास ख़बरें

10 जुलाई 1968 को पाकिस्तानी पंजाब के बहावलपुर में जन्मे अज़हर के पिता अल्लाह बख़्श शब्बीर एक सरकारी स्कूल में टीचर थे। अज़हर के पाँच भाई और छह बहनें थीं। जैश के मुखिया के पिता देवबंदी विचारधारा को मानते थे और धार्मिक रूप से कट्टर थे। 

हरक़त के संपर्क में आया

अज़हर का परिवार एक डेयरी और पोल्ट्री फ़ार्म चलाता था। 8 वीं कक्षा के बाद अज़हर को पाकिस्तान के कराची में जामिया उलूम उल इस्लामिया में पढ़ने के लिए भेज दिया गया। पढ़ाई के दौरान अज़हर आतंकवादी संगठन हरक़त उल मुजाहिदीन के आतंकवादी नेताओं के संपर्क में आया। 

नहीं पूरी कर सका ट्रेनिंग 

अज़हर को जिहाद की ट्रेनिंग लेने के लिए अफग़ानिस्तान में एक कैंप में भेजा गया। अज़हर का क़द सिर्फ़ 5 फ़ीट 3 इंच था और उसके साथी उसे मोटू कहकर पुकारते थे, इस कारण अज़हर को ख़ासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। हैरानी की बात यह है कि दुनिया जिसके नाम पर ख़ौफ़ खाती है और जो दूसरों को खूंखार आतंकवादी बनाता है वह ख़ुद 40 दिन की जिहादी की ट्रेनिंग पूरी नहीं कर पाया और उसे कैंप छोड़ना पड़ा। इस घटना के बाद अज़हर जिहादी बनने का अपना सपना छोड़ चुका था और एक धार्मिक टीचर बन गया।

निकाली मैगजीन, बना मौलाना 

इस्लाम की अच्छी जानकारी के कारण अज़हर को एक मैगजीन - ‘सदा-ए-मुजाहिदीन’ निकालने का काम मिल गया। इस मैगजीन में आतंकवादी संगठनों के लेख छपते थे। अज़हर के भाषण देने के अंदाज से कट्टरपंथी काफ़ी प्रभावित थे और धीरे-धीरे वह मौलाना मसूद अज़हर के नाम से जाना जाने लगा। 

सर्जिकल स्ट्राइक

दिल्ली आया, अशोका होटल में रुका 

बाबरी मसजिद ढहने की घटना ने अज़हर को अंदर तक हिला दिया था और वह मन-ही-मन बदले की कार्रवाई के लिए ख़ुद को तैयार करने लगा था। 1994 में अज़हर पुर्तगाल के पासपोर्ट पर ढाका पहुँचा और वहाँ से दिल्ली आया। दिल्ली में अज़हर अशोक होटल में ठहरा।

अज़हर अयोध्या में ढह चुकी बाबरी मसजिद के सामने पहुँचा। जानकारी के मुताबिक़, अज़हर ने संकल्प लिया कि जब तक बाबरी मसजिद फिर से नहीं बन जाती तब तक वह चैन से नहीं बैठेगा।
फ़रवरी 1994 में अज़हर को अनंतनाग में पकड़ा गया। पकड़े जाते समय सुरक्षा एजेंसियों को उसके बारे में पूरी जानकारी नहीं थी। गिरफ़्तारी के दौरान सुरक्षा अधिकारियों को अज़हर से पूछताछ के लिए ज़्यादा मुश्किल नहीं होती थी।
यह बताना दिलचस्प होगा कि जिसके नाम पर बड़ों-बड़ों की रुह काँप जाती है और जिसने न जाने कितने ख़ूंखार आतंकवादी बनाए, वह (अज़हर) ख़ुद एक बहुत ही कमजोर और कायर किस्म का आदमी है।
गिरफ़्तारी के दौरान थप्पड़ पड़ते ही अज़हर तोते की तरह बोलने लगता था। अज़हर बार-बार सुरक्षा अधिकारियों से कहता था कि आप लोग मुझे जानते नहीं हैं कि मैं कितना बड़ा आदमी हूँ और जल्द ही आईएसआई और पाकिस्तान उसे छुड़ाने की कोशिश करेंगे। और ऐसा हुआ भी। 

वाजपेयी सरकार ने छोड़े तीन आतंकवादी

1994 में अज़हर को छुड़ाने के लिए कुछ विदेशी सैलानियों का अपहरण किया गया लेकिन आतंकवादियों का यह ऑपरेशन कामयाब नहीं रहा। 5 साल बाद 1999 में भारतीय विमान आईसी- 814 का अपहरण कर उसे कंधार ले जाया गया। यात्रियों की सलामती के ऐवज में तत्कालीन विदेश मंत्री जसवंत सिंह ख़ुद तीन चरमपंथियों - मौलाना मसूद अजहर, अहमद ज़रगर और शेख अहमद उमर सईद को लेकर अपने साथ कंधार गए थे। 

शेख अहमद उमर सईद वही आतंकवादी था जिसने बाद में वॉल स्ट्रीट जनरल के रिपोर्टर डेनियल पर्ल का सिर कलम किया था और इस घटना से पूरी दुनिया में सनसनी फैल गई थी।
भारतीय क़ैद से छूटने के बाद अज़हर ने जैश-ए-मुहम्मद का गठन किया और जैश ने भारतीय संसद, गुजरात के गाँधी नगर में अक्षरधाम मंदिर और पठानकोट एयरफ़ोर्स स्टेशन पर हमले को अंजाम दिया। पुलवामा हमले के बाद मसूद अज़हर और इसके संगठन जैश-ए-मुहम्मद का नाम फिर से चर्चा में आया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें